आर्थिक

Demat Account in Hindi: डीमैट एकाउंट क्या है? और डिमैट खाता कैसे काम करता है? जानिए सबकुछ

Ankit Singh
1 Jun 2022 7:55 AM GMT
Demat Account in Hindi: डीमैट एकाउंट क्या है? और डिमैट खाता कैसे काम करता है? जानिए सबकुछ
x
Demat Account in Hindi: अगर आप स्टॉक मार्केट में ट्रेडिंग करना चाहते है तो आपको डिमैट एकाउंट ओपन करवाना होगा। अगर आप नहीं जानते कि Demat Account Kya Hai? (What is Demat Account in Hindi) और डिमैट एकाउंट कैसे काम करता है? (How does Demat Account Work?) तो लेख को अंत तक पढ़ें।

Demat Account in Hindi: 1996 से पहले, इक्विटी में निवेश की प्रक्रिया को जटिल माना जाता था। क्योंकि आपको सिक्योरिटीज खरीदने और बेचने के लिए स्टॉक एक्सचेंजों का दौरा करना पड़ता था। इस प्रक्रिया में ग्राहक की ओर से लेनदेन को सुरक्षित करने की कोशिश कर रहे कई अन्य दलालों के बीच मौखिक रूप से चिल्लाना शामिल था। कई बार ऑर्डर्स का गलत संचार किया गया और परिणामस्वरूप नकली या झूठे आर्डर दिए गए। 1996 में Securities and Exchange Board of India (SEBI) ने भारत में डीमैट एकाउंट (Dematerialize accounts) शुरू किया। इस शरुआत ने क्रांति ला दी और सिक्योरिटीज ट्रेडिंग को बदल दिया। Demat Account के माध्यम से, शेयर बाजार में व्यापार पूरे देश में तेज, अधिक सुरक्षित, कुशल और सुविधाजनक हो गया है।

अब SEBI ने एक Demat Account खोलना अनिवार्य कर दिया है यदि कोई निवेशक भारतीय शेयर बाजार में किसी भी सुरक्षा में निवेश करना चाहता है। हालांकि, डीमैट खाता खोलने से पहले, आपको इसका उत्तर पता होना चाहिए कि डीमैट एकाउंट क्या है? (What is Demat Account in Hindi) और डिमैट एकाउंट कैसे काम करता है। (How does Demat Account Work?)

डीमैट एकाउंट क्या है? | Demat Account Kya Hai? | What is Demat Account in Hindi

Demat Account Kya Hai? यह जानने के लिए डीमैट एकाउंट कैसे काम करता है, यह समझने के लिए पहली आवयश्कता है। 'Demat' dematerialization को संदर्भित करता है, यह एक प्रक्रिया है जिसके द्वारा फिजिकल सिक्योरिटीज को इलेक्ट्रॉनिक फॉर्मेट में कन्वर्ट किया जाता है। इसलिए, एक ट्रेडर फिजिकल सिक्योरिटीज से निपटने के बिना सिक्योरिटीज को रखने, ट्रांसफर करने और लेनदेन करने के लिए Demat Account का उपयोग कर सकता है। नतीजतन, ट्रेडिंग सिक्योरिटीज के भंडारण और ट्रेडों को निष्पादित करने का एक सुरक्षित, तेज और अधिक कुशल तरीका बन गया है।

Demat Account का उपयोग मुख्य रूप से शेयर और सिक्योरिटीज में इलेक्ट्रॉनिक रूप में निवेश करने के लिए किया जाता है जो डीमैट एकाउंट के साथ अधिक सुलभ है। विशेष रूप से ये खाते शेयर सर्टिफिकेट को फिजिकल से इलेक्ट्रॉनिक फॉर्मेट में कन्वर्ट करने के लिए हैं, जिससे खाताधारकों के लिए अधिक पहुंच उपलब्ध हो सके।

Demat Account की उत्पत्ति के साथ, निवेशकों या व्यापारियों ने समाशोधन, धोखाधड़ी के मामलों को समाप्त करने, ब्रोकरेज दरों को कम करने, और विशेष रूप से इक्विटी मार्केट में व्यापार की मात्रा में तेजी से वृद्धि के लिए आवश्यक समय में पर्याप्त कमी देखी है।

डीमैट एकाउंट कैसे काम करता है? | How does Demat Account Work?

Demat Account in Hindi: भारत में डीमैट एकाउंट कैसे काम करता है यह एक सीधी प्रक्रिया है जहां खाते में शेयरों को इलेक्ट्रॉनिक फॉर्मेट में रखा जाता है। Demat Account का उपयोग मुख्य रूप से शेयरों और सिक्योरिटीज में इलेक्ट्रॉनिक रूप में निवेश करने के लिए किया जाता है जो Demat Account के साथ अधिक सुलभ है। प्रत्येक स्टॉकब्रोकर अपने पूरे जीवनकाल में प्रदान की गई सेवाओं और डीमैट एकाउंट के प्रबंधन के लिए कुछ डीमैट एकाउंट खोलने का शुल्क लेता है।

Demat Account उसी तरह काम करते हैं जैसे बैंक एकाउंट काम करते हैं। डीमैट एकाउंट को अपनी पूरी क्षमता से प्रदर्शन करने के लिए, इसे एक ट्रेडिंग एकाउंट से जोड़ा जाना चाहिए। जब भी आप अपने ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म के माध्यम से कंपनी का शेयर खरीदते हैं तो आपका डिपॉजिटरी पार्टिसिपेंट आपके 'Buy' ऑर्डर को स्टॉक एक्सचेंज को फॉरवर्ड कर देता है। एक्सचेंज आपके 'Buy' अनुरोध को किसी अन्य व्यापारी या निवेशक के संबंधित 'Sell' रिक्वेस्ट के साथ मिलाता है। एक बार आपके ऑर्डर का मिलान हो जाने के बाद स्टॉक एक्सचेंज से एक ऑर्डर क्लीयरेंस हाउस को भेजा जाता है, जो व्यापार का निपटारा करता है। एक बार लेन-देन का निपटान हो जाने के बाद, आपके द्वारा खरीदे गए शेयरों की संख्या ट्रेडिंग डे के अंत में आपके डीमैट एकाउंट में जमा हो जाती है। इसके साथ ही सेलर के डीमैट एकाउंट में बेचे गए शेयरों की संख्या के लिए डेबिट किया जाता है।

ट्रेडिंग और सेविंग एकाउंट का कॉम्बिनेशन

डीमैट एकाउंट कैसे काम करता है, यह जानने में शामिल कदमों में ट्रेडिंग और सेविंग एकाउंट का एकीकरण शामिल है। ट्रेडिंग एकाउंट खोले बिना, आप डीमैट एकाउंट के माध्यम से निवेश नहीं कर पाएंगे। ट्रेडिंग एकाउंट वह एकाउंट है जो सिक्योरिटीज को खरीदने और बेचने में शामिल मौद्रिक लेनदेन को पूरा करने के लिए आवश्यक है।

डीमैट, ट्रेडिंग और एकाउंट खाते अलग-अलग काम करते हैं लेकिन सुचारू व्यापार के लिए एक साथ जुड़े हुए हैं। इक्विटी और सिक्योरिटीज में लेन-देन शुरू करने से पहले इन तीन एकाउंट को लिंक करना एक जरूरी है। Demat Account खोलने के लिए सबसे महत्वपूर्ण कदम एक सेविंग एकाउंट होना है। इसके अलावा, Demat Account को क्रेडिट किया जाता है और खरीदी गई सिक्योरिटीज को सेविंग एकाउंट द्वारा वित्त पोषित किया जाता है।

यहां यह नोट करना महत्वपूर्ण है कि अंगद कोई ट्रेडर के रूप में अक्सर सिक्योरिटीज को बेचना और खरीदना चाहता है, तो एक ट्रेडिंग एकाउंट जरूरी है। वर्तमान में अधिकांश ब्रोकर Demat Account के साथ एक ट्रेडिंग एकाउंट खोलते हैं। आप दोनों खातों को सेविंग एकाउंट से जोड़ सकते हैं और इक्विटी, डेरिवेटिव, म्यूचुअल फंड, कमोडिटी और करेंसी में ट्रेडिंग कर सकते हैं।

Conclusion -

उम्मीद है कि आप जान गए होंगे कि Demat Account Kya Hai? (What is Demat Account in Hindi) और डिमैट एकाउंट कैसे काम करता है? (How does Demat Account Work?) बता दें कि आज, भारत में वित्तीय बाजारों की गतिशीलता के साथ एक Demat Account और एक Trading Accoung होना जरूरी है। हालांकि, आपके द्वारा खोला गया Demat Account आपको सर्वोत्तम निवेश सुविधाएं प्रदान करने के लिए व्यापक होना चाहिए। इसलिए आपको अपने रिटर्न को अधिकतम करने और अपने निवेश की सुरक्षा के लिए डीमैट खाता खोलते समय यह सुनिश्चित करना चाहिए कि आप अच्छी तरह से पढ़े-लिखे, जागरूक और सतर्क हैं।

ये भी पढ़ें -

Trading Account Kya hai? | ट्रेडिंग एकाउंट कैसे खोले? | Trading Account Kaise Khole?

Types of Stock Trading in Hindi: शेयर मार्केट में ट्रेडिंग कितने प्रकार से की जाती है? जानिए

10 Stock Market Tips for Beginners: नए निवेशकों को शेयर ट्रेडिंग कैसे करनी चाहिए? सीखिए

Paper Trading Kya Hota Hai? | पेपर ट्रेडिंग क्या है? जानिए Paper Trade कैसे किया जाता है?

आप भी करना चाहते है ऑनलाइन स्टॉक ट्रेडिंग? तो यहां जानिए Share Market Trading Kya Hai?

Next Story