आर्थिक

Commoditiy Market Kya Hai? | कमोडिटी मार्केट क्या है? और इसमें निवेश कैसे करें, जानिए

Ankit Singh
27 April 2022 12:52 PM GMT
Commoditiy Market Kya Hai? | कमोडिटी मार्केट क्या है? और इसमें निवेश कैसे करें, जानिए
x
Commoditiy Market in Hindi: जैसे शेयर मार्केट में आप सिक्योरिटीज को इलेक्ट्रॉनिक फॉर्म में खरीदते है, ठीक इसके उलट कमोडिटी मार्केट में वस्तुओं को फिजिकल फोरम में खरीदा जाता है। Commoditiy Market Kya Hai? (What is Commoditiy Market in Hindi) और इसमें निवेश क्यों करें? यह जानने के लिए लेख अंत तक पढ़ें।

Commoditiy Market in Hindi: अगर आपको लगता है कि इक्विटी बाजार (Equity Market) दुनिया का एकमात्र वित्तीय बाजार है, तो आपको अपने ज्ञान को और बढ़ाने की जरूरत हैं। कुछ अन्य फाइनेंसियल मार्केट हैं जो शेयर मार्केट जैसे करेंसी मार्केट और कमोडिटी मार्केट (Commoditiy Market) के रूप में लोकप्रिय हैं। आइए इस लेख में कमोडिटी मार्केट की बारीकियों में थोड़ा गहराई से समाझते है और जानते है कि Commoditiy Market Kya Hai? (What is Commoditiy Market in Hindi), यह कितने प्रकार की होती है? (Types of Commodities in the Market) और कमोडिटी मार्केट में निवेश क्यों करें? (Why Invest in the Commodity Market?)

कमोडिटी मार्केट क्या है? | Commoditiy Market Kya Hai? | What is Commoditiy Market in Hindi

Commoditiy Market in Hindi: जिस तरह किसी कंपनी के शेयरों का शेयर मार्केट में कारोबार होता है, उसी तरह कमोडिटी बाजार में वस्तुओं (Commodities) को खरीदा और बेचा जाता है। इस वित्तीय बाजार को प्रोड्यूसर, Manufacturers और होलसेल ट्रेडर द्वारा विभिन्न वस्तुओं और वस्तुओं के लिए Price Discovery Mechanism के रूप में उपयोग किया जाता है।

Commoditiy Market एक ऐसा मार्केटप्लेस है जहां निवेशक देश के भीतर मसालों, ऊर्जा, कीमती धातुओं, कच्चे तेल जैसी कई वस्तुओं का व्यापार करते हैं। हाल के दिनों में, फॉरवर्ड मार्केट ऑफ कमीशन ने लगभग 120 वस्तुओं को भारत के भीतर भविष्य में व्यापार करने की अनुमति दी थी।

जो निवेशक अपने पोर्टफोलियो में विविधता लाने पर ध्यान केंद्रित कर रहे हैं, वे खराब होने वाले और खराब न होने वाले दोनों प्रोडक्ट में निवेश कर सकते हैं। यह सभी निवेशकों को कम जोखिम का सामना करने में मदद करेगा और देश में बढ़ती मुद्रास्फीति दर के खिलाफ एक सीमा प्रदान करता है।

बाजार में वस्तुओं के प्रकार | Types of Commodities in the Market

कमोडिटीज को दो अलग-अलग श्रेणियों में बांटा गया है -

1) हार्ड कमोडिटीज (Hard Commodities)

हार्ड कमोडिटीज में नेचुरल रिसोर्सेज होते हैं जिन्हें खनन या निकाला जाता है। हार्ड कमोडिटीज को दो कैटेगरी में वर्गीकृत किया गया है -

1) धातु (Metal) - सोना, चांदी, जस्ता, तांबा, प्लेटिनम

2) ऊर्जा (Energy) - प्राकृतिक गैस, कच्चा तेल, गैसोलीन, हीटिंग तेल

2) सॉफ्ट कमोडिटीज (Soft Commodities)

सॉफ्ट कमोडिटीज उन वस्तुओं को संदर्भित करती हैं जिन्हें निकाला या खनन करने के बजाय उगाया और उनकी देखभाल की जाती है। सॉफ्ट कमोडिटीज को दो कैटेगरी में वर्गीकृत किया गया है-

1) कृषि (Agriculture) - चावल, मक्का, गेहूं, कपास, सोयाबीन, कॉफी, नमक, चीनी

2) पशुधन और मांस (Livestock and Meat) - चारा मवेशी, जीवित मवेशी, अंडा

भारत के कमोडिटी मार्केट में कितने एक्सचेंज उपलब्ध हैं? | Commodity Exchanges in India

भारत में 22 अलग-अलग कमोडिटी एक्सचेंज हैं जिनका गठन फारवर्ड मार्केट कमीशन के तहत किया गया है। भारत में ट्रेडिंग के लिए 4 लोकप्रिय कमोडिटी एक्सचेंज हैं -

1)इंडियन कमोडिटी एक्सचेंज (ICEX)

2)नेशनल मल्टी कमोडिटी एक्सचेंज ऑफ इंडिया (NMCE)

3)मल्टी कमोडिटी एक्सचेंज ऑफ इंडिया (MCX)

4)नेशनल कमोडिटी एंड डेरिवेटिव एक्सचेंज (NCDEX)

कमोडिटी मार्केट के प्रतिभागी | Participants of Commodity Market

कमोडिटी बाजार में दो प्रमुख भागीदार हैं -

1) सट्टेबाज (Speculators)

सट्टेबाज कमोडिटी बाजार में व्यापारी होते हैं जो लगातार वस्तुओं की कीमत की जांच करते हैं और भविष्य की कीमतों में उतार-चढ़ाव बताते हैं।

अगर वे कीमत ऊपर जाने की उम्मीद करते हैं, तो वे एक कमोडिटी कॉन्ट्रैक्ट खरीदते हैं और जैसे ही कीमत ऊपर जाती है, उन्हें तुरंत बेच देते हैं।

इसी तरह, अगर वे कीमत नीचे जाने की उम्मीद करते हैं, तो वे अपने कमोडिटी कॉन्ट्रैक्ट बेचते हैं और कीमत गिरने पर वापस खरीद लेते हैं।

प्रत्येक सट्टेबाज का प्राथमिक उद्देश्य किसी भी प्रकार के बाजार में बड़ी मात्रा में लाभ अर्जित करना है।

2) हेजर्स (Hedgers)

हेजर्स आम तौर पर Manufacturers और Producers होते हैं जो कमोडिटी फ्यूचर्स मार्केट का उपयोग करके खुद को जोखिम से बचाते हैं।

आइए एक उदाहरण की मदद से समझते हैं, अगर कोई किसान यह अपेक्षा करता है कि फसल कटाई के दौरान कीमत में उतार-चढ़ाव होगा, तो वह अपनी स्थिति को हेज (रोकना) कर सकता है। खुद को जोखिम से बचाने के लिए वह फ्यूचर्स कॉन्ट्रैक्ट में प्रवेश करेगा।

यदि बाजार में फसल की कीमत कम हो जाती है, तो किसान सभी नुकसान की भरपाई कर सकता है और भविष्य के बाजार में मुनाफावसूली कर सकता है।

इसी प्रकार अगर फसल की कटाई के दौरान फसलों की कीमत बढ़ जाती है, तो किसान को भविष्य के बाजार में नुकसान हो सकता है, और वह अपनी फसल को स्थानीय बाजार में अधिक कीमत पर बेचकर चुका सकता है।

कमोडिटी मार्केट में निवेश क्यों करें? | Why Invest in the Commodity Market?

Commodity Market in Hindi: कमोडिटी मार्केट में निवेश के कुछ फायदे और नुकसान हैं। आइए पहले फायदे देखें -

Benefits of Commodity Market in Hindi

डायवर्सिफिकेशन - Commodity Market का प्रदर्शन स्टॉक और बॉन्ड के रिटर्न की तुलना में उलटा है। इसलिए अपने फंड का एक छोटा प्रतिशत कमोडिटी मार्केट में निवेश करना कई व्यक्तियों के लिए फायदेमंद होता है। यह उन्हें निवेश पर उच्च प्रतिफल प्राप्त करने में मदद करेगा, भले ही स्टॉक की कीमतों में गिरावट का रुझान हो। इससे उन्हें मुख्य रूप से पूंजी क्षेत्र द्वारा उत्पन्न नकारात्मक या कम मुनाफे की भरपाई करने में मदद मिलती है।

मार्जिन ट्रेडिंग - बॉन्ड और स्टॉक मार्केट डीलिंग की तुलना में कमोडिटी ब्रोकर ट्रेडिंग के मामले में कम मार्जिन देते हैं। यह दलालों को उधार ली गई निधियों पर व्यापार करने के लिए अनुदान देता है जो सट्टेबाजों और हेजर्स दोनों को प्रत्येक लेनदेन से लाभ की अनुमति देता है।

जबकि कमोडिटी ट्रेडर बाद में पुनर्भुगतान का वादा करके थोक ऑर्डर से लाभ उठा सकते हैं, इस प्रकार सट्टेबाजों को ऐसे निवेशों से उच्च रिटर्न अर्जित करने में मदद मिलती है।

वास्तविक रिटर्न - आर्थिक और पूंजी बाजार की स्थितियों के अनुसार, विशिष्ट वस्तुएं स्थिर होती हैं, जबकि कई वस्तुएं आर्थिक और पूंजी बाजार की स्थितियों के कारण अस्थिर रहती हैं। वस्तुओं के अस्थिर होने का एक वास्तविक उदाहरण कच्चा तेल है। आपूर्ति, खनन समस्याओं या आर्थिक स्थितियों में बड़े उतार-चढ़ाव के कारण इसकी कीमत स्थिर नहीं रहती है।

शेयरधारक ऐसी वस्तुओं में लाभ बुक करने के लिए निवेश करते हैं, यहां तक ​​​​कि व्यापार में उतार-चढ़ाव होता है और बाजार के प्रति उनकी भविष्यवाणी के अनुसार लंबी या छोटी स्थिति प्राप्त करते हैं।

Disadvantage of Commodity Market in Hindi

सीमित रिटर्न - Commodity investment का उद्देश्य केवल पूंजीगत लाभ जमा करना है, जबकि स्टॉक और बॉन्ड बाजारों में कूपन, भुगतान और लाभांश कूपन जैसे आवधिक भुगतान होते हैं। हालांकि, उच्च रिटर्न हासिल करने के लिए कमोडिटी बाजार में वास्तविक विशेषज्ञता की आवश्यकता होती है। व्यक्ति किसी विशेष कमोडिटी ब्रोकर के साथ रजिस्ट्रेशन करके किसी भी स्थापित Commodity Market के माध्यम से व्यापार कर सकते हैं।

भारी जोखिम - कमोडिटी बाजार वास्तव में अस्थिर है, और मांग या उत्पादक क्षमता में कोई भी बदलाव कीमतों को बुरी तरह प्रभावित कर सकता है। इस तरह की उच्च अस्थिरता के कारण कीमतें स्थिर नहीं रह सकती हैं, जिससे निवेशकों को उच्च रिटर्न का नुकसान होता है।

इसलिए Commodity Market में व्यक्तिगत व्यवहार को आंतरिक और बाहरी कारकों जैसे कि कंपनी के आंतरिक कामकाज या अंतर्राष्ट्रीय व्यापार से अच्छी तरह से वाकिफ होना चाहिए।

कमोडिटी में कैसे निवेश करें? | How to invest in Commodity?

सबसे पहले कमोडिटी में निवेश करने के लिए, आपको अपनी पसंद की ब्रोकरेज फर्म के साथ एक Trading Account खोलना होगा। चूंकि कमोडिटी भौतिक वस्तुएं हैं और इलेक्ट्रॉनिक सिक्योरिटीज नहीं हैं, इसलिए आपको केवल एक ट्रेडिंग खाते की आवश्यकता है, न कि डीमैट खाते की। आप अपनी पसंद की कमोडिटी में दो तरीकों से निवेश कर सकते हैं - एक Futures contract या एक Options contract के माध्यम से।

Futures और Options दोनों को डेरिवेटिव के रूप में जाना जाता है। वे अपना मूल्य अंडरलाइंग एसेट से प्राप्त करते हैं, जो इस मामले में Commodity होगी। जब आप एक डेरिवेटिव कॉन्ट्रैक्ट खरीदते या बेचते हैं, तो आप अनिवार्य रूप से भविष्य में एक विशिष्ट समय पर एक पूर्व निर्धारित मूल्य और मात्रा पर अंडरलाइंग एसेट को खरीदने या बेचने के लिए सहमत होते हैं।

ये भी पढ़े -

What is Share Market in Hindi: शेयर मार्केट भारत में कैसे काम करता है? यहां विस्तार से समझिए

Market Capitalization in Hindi: विस्तार से जानें Market Cap Kya hai? और इसकी गणना कैसे करें

आप भी करना चाहते है ऑनलाइन स्टॉक ट्रेडिंग? तो यहां जानिए Share Market Trading Kya Hai?

Stock Market Crash Kya Hai?: कैसे और क्यों होता है शेयर मार्केट क्रैश? जानिए नुकसान से बचने के टिप्स

Next Story