आर्थिक

What is Alphabet Stock in Hindi | अल्फाबेट स्टॉक क्या है? यह कॉमन स्टॉक से कितना अलग होता है?

Ankit Singh
4 May 2022 9:33 AM GMT
What is Alphabet Stock in Hindi | अल्फाबेट स्टॉक क्या है? यह कॉमन स्टॉक से कितना अलग होता है?
x
Alphabet Stock in Hindi: शेयर मार्केट की दुनिया में स्टॉक के भी विभिन्न वर्ग होते है। इन्ही में से एक है अल्फाबेट स्टॉक (Alphabet Stock) है। यह कॉमन स्टॉक से कितना अलग होता है? इस लेख में जानेंगे। तो आइए जानते है कि अल्फाबेट स्टॉक क्या है? (What is Alphabet Stock in Hindi)

Alphabet Stock in Hindi: किसी भी कंपनी के फाइनेंस के लिए स्टॉक ह्यूमन बॉडी में मौजूद एक सेल की तरह है। यह किसी भी कंपनी के फाइनेंस की जड़ है। कोई भी आर्गेनाइजेशन हो उसे वर्क करने के लिए फंड की आवश्यकता होती है। जब तक आर्गेनाइजेशन निजी तौर पर इसकी व्यवस्था करने का निर्णय नहीं लेता, तब तक यह एक निजी तौर पर आयोजित कंपनी (Privately held Company) बनी रहती है। हालांकि एक बार जब यह आम जनता से फंड लाने का फैसला करता है, तो यह एक पब्लिक लिमिटेड कंपनी (Public Limited Company) बन जाती है। इस प्रकार एकत्र की गई धनराशि को कंपनी के सामान्य स्टॉक (Common Stock) के रूप में जाना जाता है।

अल्फाबेट स्टॉक (Alphabet Stock) एक तरह का कॉमन स्टॉक ही है। इससे पहले कि हम जानें कि अल्फाबेट स्टॉक क्या है? (What is Alphabet Stock in Hindi), उससे पहले आइए कॉमन स्टॉक को डिकोड करें।

कॉमन स्टॉक क्या है? | What is Common Stock in Hindi

Common Stock in Hindi : कॉमन स्टॉक पूंजी (Capital) या कंपनी द्वारा शेयर जारी करके जुटाई गई धनराशि (Fund) है। इन शेयरों का कंपनी के मुनाफे (Profit) पर या कंपनी की नीतियों (Company Policies) में मतदान के अधिकार में क्लेम करने का शाब्दिक अर्थ है। इसका मतलब कंपनी के बोर्ड ऑफ डायरेक्टर्स में प्रतिनिधित्व भी हो सकता है। इस प्रकार के शेयर सभी मिलकर कंपनी का Common Stock बनाते हैं।

डेट होल्डर, प्रीफेरेंस शेयरहोल्डर और आर्गेनाइजेशन के अन्य बांडहोल्डर किसी कंपनी के परिसमापन (Liquidating) की स्थिति में कमान स्टॉक के मालिकों से पहले भुगतान प्राप्त करते हैं। फिर भी अधिक जोखिम में अधिक रिटर्न की आवश्यकता होती है। आम शेयरहोल्डर तब तक प्रॉफिट प्राप्त करते है जब तक वे कंपनी के लाभ में हिस्सेदारी के हकदार होते हैं। इस प्रकार वे इसके सभी तरह के ग्रोथ बेनिफिट में भी भागीदार बनते हैं।

उस विशेष स्टॉक के कामकाज के आधार पर कॉमन स्टॉक के विभिन्न वर्गीकरण हैं, इसमें ग्रोथ, डिविडेंड, हाइब्रिड और बहुत कुछ शामिल है। हालांकि अल्फाबेट स्टॉक (Alphabet Stock) एक सामान्य स्टॉक वर्गीकरण है, यह कॉमन स्टॉक से काफी अलग है। तो आइए अब जानते है कि Alphabet Stock Kya Hai?

अल्फाबेट स्टॉक क्या है? | What is Alphabet Stock in Hindi

यह एक प्रकार का कॉमन स्टॉक है जो इसकी सहायक कंपनियों (Subsidiary Companies) में से एक में अपनी हिस्सेदारी का प्रतिनिधित्व करता है। पैरेंट कंपनी द्वारा सहायक कंपनी का अधिग्रहण करने के कारण Alphabet Stock मौजूद है। हालांकि, पैरेंट कंपनी सहायक कंपनी को अपनी स्थिति बनाए रखने देती है। सहायक कंपनी के मुनाफे और वोटिंग में पैरेंट कंपनी की हिस्सेदारी को Alphabet Stock के रूप में जाना जाता है।

Alphabet Stock के वोटिंग राइट और डिविडेंड शेयरिंग पैरेंट कंपनी के स्टॉक से भिन्न हो सकते हैं। यह पूरी तरह से दोनों कंपनियों के बीच अधिग्रहण की शर्तों पर निर्भर है। इसी तरह, इसे प्राइवेट ओनरशिप में रखने या पब्लिक रूप से व्यापार करने का निर्णय पैरेंट कंपनी के पास रहता है।

आम तौर पर बड़े अल्फाबेट स्टॉक वाली कंपनियों की एक जटिल पूंजी संरचना (Complex Capital Structure) होती है। इसका मतलब है कि इसकी बड़ी संख्या में सहायक कंपनियां हैं। Alphabet Stock का ट्रीटमेंट प्रत्येक सहायक के लिए भिन्न हो सकता है।

अल्फाबेट स्टॉक का उदाहरण | Example of Alphabet Stock

अल्फाबेट इंक का गठन 2014 में Google इंक की पैरेंट कंपनी के रूप में किया गया था, जिसने अपने ओरिजिनल शेयरों को टिकर नाम GOOG के तहत GOOGL क्लास ए शेयरों में एक वोटिंग राइट के साथ पुनर्वर्गीकृत (Reclassified) किया था। हालांकि शेयरों का एक नया वर्ग, GOOG, बिना वोटिंग राइट वाले वर्ग C के शेयरों के रूप में बनाया गया था। इसने सुनिश्चित किया कि पैरेंट कंपनी के वोटिंग राइट बरकरार रहे और आर्गेनाइजेशन में फाउंडर के इंटरेस्ट की रक्षा की गई।

वर्तमान में Alphabet Inc के दोनों शेयर NASDAQ पर समान कीमतों पर ट्रेड करते हैं। हालांकि हर दूसरे अल्फाबेट स्टॉक के लिए ऐसा नहीं हो सकता है। यह सहायक कंपनी की लिस्टिंग पर निर्भर करता है और पैरेंट कंपनी अल्फाबेट स्टॉक के साथ कैसे व्यवहार करती है? इसपर भी निर्भर करता है।

कंपनी के पास अब निम्नलिखित शेयर वर्ग हैं-

क्लास ए शेयर: GOOGL. उनका वोटिंग राइट एक शेयर के बदले एक वोट है। वे NASDAQ पर व्यापार करते हैं।

क्लास सी शेयर: GOOG. उनके पास वोटिंग का कोई अधिकार नहीं है। वे भी NASDAQ पर ट्रेड करते हैं।

क्लास बी शेयर: सुपर वोटिंग शेयर. वे सेकेंडरी मार्केट में ट्रेड के लिए उपलब्ध नहीं हैं। Google के अंदरूनी सूत्र और शुरुआती निवेशक उनके मालिक हैं।

ध्यान रखने वाली बात -

Alphabet Stock को इसका उपयोग शब्दावली के कारण कहा जाता है। एक अल्फाबेट स्टॉक को दर्शाने के लिए पैरेंट कंपनी के स्टॉक नाम में एक अवधि और एक अक्षर जोड़ा जाता है।

उदाहरण के लिए अगर ABC कंपनी का कॉमन स्टॉक है तो एबीसी. ए या एबीसी. बी अल्फाबेट स्टॉक को दर्शाने का तरीका हो सकता है।

Alphabet के शेयरों के वर्गों के बीच वोटिंग के राइट को अलग करने के बारे में भी कोई सख्त नियम नहीं है। हालांकि, दो अल्फाबेट स्टॉक में अलग-अलग डिविडेंड और वोटिंग राइट हो सकते हैं।

Conclusion -

एक कंपनी का दूसरी कंपनी द्वारा अधिग्रहण या विस्तार Alphabet Stock बनाता है। कभी-कभी, यह स्टॉक का वही टुकड़ा रहता है जो सहायक कंपनी में था। अन्य समयों में, यह अपने द्वारा प्रदान किए जाने वाले विशेषाधिकारों को बदल सकता है। प्रत्येक खरीदार को सही स्टॉक खरीदने से पहले उसके लाभों और अधिकारों की जांच करने की आवश्यकता होती है।

ये भी पढ़ें -

T2T स्टॉक क्या है? | What is T2T Stock in Hindi | Trade 2 Trade Stock Meaning in Hindi

Multibagger Penny Stock in Hindi: मल्टीबैगर पेनी स्टॉक क्या होता है? जानिए इसकी खासियतें

Floating Stock Kya Hai? | What is Floating Stock in Hindi | फ्लोटिंग स्टॉक क्या होता है? जानें

Circuit Filter in Stock Market: शेयर बाजार में Upper Circuit और Lower Circuit क्या होता है?

Paper Trading Kya Hota Hai? | पेपर ट्रेडिंग क्या है? जानिए Paper Trade कैसे किया जाता है?

Next Story