आर्थिक

अपने PPF इन्वेस्टमेंट को करना चाहते है डबल? तो इस रूल को करें फॉलो

Ankit Singh
13 Feb 2022 9:33 AM GMT
अपने PPF इन्वेस्टमेंट को करना चाहते है डबल? तो इस रूल को करें फॉलो
x
PPF Account: अगर आप विवाहित है तो अपने PPF निवेश को डबल कर सकते है। यहां बताए गए रूल को फॉलो करके आप 1.5 लाख रुपये के बजाय 3 लाख रुपये प्रति वर्ष निवेश कर सकते है।

पब्लिक प्रोविडेंट फंड उन बहुत कम निवेश विकल्पों में से एक है जो सरकार की ट्रिपल टैक्स छूट लाभों के साथ आते है। PPF के लाभार्थियों को निवेश, बढ़ोतरी और निकासी के समय टैक्स में छूट मिलती है। इसलिए इसए EEE स्टेटस के नाम भी जाना जाता है। EEE रूल के तहत PPF एकाउंट होल्डर को सालाना 1.5 लाख रुपये तक की आयकर छूट मिलती है। इनकम टैक्स एक्ट 1961 के सेक्शन 80C के तहत, प्रत्येक वर्ष अर्जित ब्याज दर को भी किसी भी उगाही से मुक्त किया जाता है और कोई भी टैक्स के बिना मैच्योरिटी अमाउंट को वापस ले सकता है। हालांकि यह भी ध्यान रखना चाहिए कि एक व्यक्ति एक से अधिक PPF एकाउंट नहीं खोल सकता है और एक साल में अपने PPF एकाउंट में 1.5 लाख रुपये से अधिक का इन्वेस्टमेंट भी नहीं कर सकता है।

बीतें दिनों ICAI ने एक सिफारिश की थी जिसमें उन्होंने मांग की थी कि PPF डिपाजिट की अधिकतम वार्षिक सीमा बढ़ाई जाए और जमा की लिमिट को बढ़कर 3 लाख रुपये की जाए। यह सिफारिश कब मंजूर होगी इसका तो नहीं पता लेकिन वास्तव में आपके PPF इनकम को दोगुना करने का एक तरीका है।

अपने PPF निवेश को सालाना डबल कैसे करें?

एक विवाहित पुरुष अपनी पत्नी के नाम पर PPF एकाउंट खोलकर अपने इन्वेस्टमेंट को डबल कर सकता है और इस तरह 1.5 लाख रुपये के बजाय 3 लाख रुपये प्रति वर्ष निवेश कर सकता है। हालांकि नियमों के अनुसार सेक्शन 80C के तहत कुल आयकर छूट 1.5 लाख रुपये प्रति वर्ष होगी।

इस मामले में इन्वेस्टमेंट का सोर्स पति के पास होगा अगर वह अपनी पत्नी के नाम से PPF एकाउंट खोलता है। इसका मतलब है कि इस खाते में अर्जित ब्याज को पति की आय के साथ जोड़ दिया जाएगा। चूंकि PPF एकाउंट में अर्जित ब्याज टैक्स फ्री है तो यह दोनों मामलों में सही होगा।

अगर आप अपने PPF एकाउंट को मर्ज करना चाहते हैं और एनुअल लिमिट को पार नहीं करते है तो आपके पास अपनी पसंद के PPF एकाउंट को बनाए रखने का ऑप्शन है। अगर दोनों एकाउंट एक ही ऑपरेटिंग एजेंसी में हैं तो ट्रांसफर प्रक्रिया और आसान हो जाती है।

ऐसा निवेश उन लोगों के लिए उचित है जो कम जोखिम लेने की क्षमता रखते हैं लेकिन निवेश करना चाहते हैं। PPF एकमात्र सुरक्षित और टैक्स मुक्त बचत योजना है जो सेल्फ एम्प्लॉयड व्यक्तियों के साथ-साथ वेतनभोगी व्यक्तियों के लिए भी उपलब्ध है। इसकी ब्याज दर 7.1 प्रतिशत है जो सरकार की EPF और सुकन्या समृद्धि जैसी योजनाओं के ठीक पीछे आती है।

पब्लिक प्रोविडेंट फंड या PPF भारत में सबसे लोकप्रिय, लंबी अवधि के निवेश विकल्पों में से एक है। यह रिटायरमेंट के बाद निवेशकों के लिए लॉन्ग टर्म फंड बनाने के लिए भारत सरकार द्वारा प्रदान की जाने वाली एक रिटायरमेंट सेविंग पॉलिसी है। इसे वित्त मंत्रालय के राष्ट्रीय बचत संस्थान (National Savings Institute) द्वारा 1968 में पेश किया गया। यह योजना सुरक्षा, रिटर्न और कर लाभों के कारण सबसे अधिक मांग वाले निवेश विकल्पों में से एक के रूप में उभरी है।

ये भी पढें -

जीरो पेरसेंट झोखिम के साथ चाहते है हाई रिटर्न, तो ये रहे Top 5 Government Investment Schemes

PPF एकाउंट बंद हो जाएं तो क्या करें? घबराएं नहीं यहां जानें खाते को दोबारा एक्टिवेट करने का तरीका

बच्चे के भविष्य के लिए पैसे बचाना चाहते हैं? तो खोल सकते है Minor PPF Account, जानें क्या है तरीका

TagsPPF 
Next Story