आर्थिक

Investment Planning: एसेट एलोकेशन के इन नियमों का अच्छे से समझ लें, मिलेगा हाई रिटर्न

Ankit Singh
13 Feb 2022 10:43 AM GMT
Investment Planning: एसेट एलोकेशन के इन नियमों का अच्छे से समझ लें, मिलेगा हाई रिटर्न
x
Asset Allocation Rules: जब आप कई एसेट क्लास के साथ एक पोर्टफोलियो का निर्माण करते हैं तो जरूरी है कि अपने एसेट का बैलेंस सही से बनाए। एसेट को सही से एलोकेट करने का कुछ खास नियम है, जिससे आपको अपने निवेश पर हाई रिटर्न मिल सकता है।

Asset Allocation Rules: एसेट एलोकेशन यह निर्धारित करने का एक तरीका है कि चार प्रमुख एसेट क्लास-इक्विटी, डेट, कमोडिटीज और रियल एस्टेट में से प्रत्येक में कितना निवेश करना है। इनमें से प्रत्येक एसेट क्लास के अपने फायदें और नुकसान होते है। इस प्रकार अलग अलग निवेशकों का विचार एसेट को आवंटित करने के मामले में अलग अलग हो सकता है।

हालांकि Asset Allocation के कुछ नियम हैं जिन्हें अपनाया जाए तो कोई भी निवेशक अपने एसेट से हाई रिटर्न कमा सकता है और रिस्क को बैलेंस भी कर सकता है। आइए जानते हैं क्या हैं ये वो खास नियम।

नियम 1: कम से कम तीन एसेट क्लास में निवेश करें

मान लीजिए आपके पास निवेश करने के लिए 10 लाख रुपये हैं और अपने अपने पूरे फंड को एक एसेट जैसे Equity में इन्वेस्ट किया है। तो अगर शेयर मार्केट गिरता है तो आपका पूरा निवेश कम हो जाता है। यह तब तक हो सकता है जब तक आप किसी एक एसेट क्लास में निवेश कर रहे हों।

इससे बचने के लिए, आप कम से कम तीन एसेट वर्गों के पोर्टफोलियो में निवेश करें। अगर एक या दो एसेट वर्गों की कीमतों में गिरावट आएगी तो बाकी के अन्य एसेट एक बफर के रूप में कार्य करेंगे और आपके पोर्टफोलियो में झोखिम को कम करने से रोकेंगे। .

नियम 2: Asset Classes के बीच संबंध कम रखें

नियम 1 तभी काम करता है जब आप नियम 2 सुनिश्चित करते हैं। पहले के उदाहरण की तरह अगर आप फिजिकल गोल्ड, गोल्ड ईटीएफ और डेट फंड में केवल 10 लाख रुपये डिस्ट्रीब्यूट करते है और अगर बाजार में तेजी आती है तो आप हाई रिटर्न कमाने का अवसर अवसर खो देंगे। गोल्ड और डेट दोनों ही एसेट क्लास डिफेंस की तरह काम करते है, यह इक्विटी मार्केट जितना रिटर्न कमाने में असमर्थ हैं। उन्हें आपस में एक उच्च संबंध के रूप में देखा जाता है।

लेकिन इसका उल्टा भी सच है। अगर मार्केट में गिरावट आती है और अगर अपने इक्विटी और रियल एस्टेट में ही निवेश कर रखा है तो आपका पूरा पोर्टफोलियो प्रभावित होगा। इसलिए असेट क्लास के बीच में संबंध न बनाए, बल्कि गोल्ड, डेट, इक्विटी जैसे एसेट में सूझबूझ के साथ निवेश करें।

जब आप एसेट वर्गों के साथ एक पोर्टफोलियो का निर्माण करते हैं, जो एक दूसरे के साथ कम कोरिलेशन रखते हैं तो आपके पोर्टफोलियो का एक हिस्सा बाजार में ग्रोथ होने पर हाई रिटर्न प्राप्त करने में मदद करेगा और आपके पोर्टफोलियो का दूसरा हिस्सा बाजार गिरने पर नुकसान को कम करेगा।

नियम 3: समय-समय पर पोर्टफोलियो का करें रीबैलेंस

इक्विटी और डेट में 70:30 के रेश्यो में निवेश किए गए 10 लाख रुपये के पोर्टफोलियो पर विचार करें। पोर्टफोलियो रीबैलेंसिंग में आपके पोर्टफोलियो को 70:30 के गोल रेश्यो में बनाए रखना शामिल है भले ही बाजार की हलचल कुछ भी हो। मान लीजिए कि अगले एक साल में इक्विटी मार्केट में 10% की गिरावट आती है जबकि डेट मार्केट में 1% की बढ़ोतरी होती है। तो आपका पोर्टफोलियो रेश्यो 68:32 में बदल जाएग। पोर्टफोलियो रीबैलेंसिंग को लागू करते हुए आपको डेट बेचकर और इक्विटी खरीदकर 70:30 के गोल रेश्यो को बहाल करने की आवश्यकता है।

इसके विपरीत अगर इक्विटी मार्केट में 10% की ग्रोथ होती है और डेट मार्केट में 2% की गिरावट आती है, तो आपका पोर्टफोलियो रेश्यो 72:28 हो जाएगा। इसे 70:30 पर बहाल करने के लिए आपको इक्विटी बेचने और डेट खरीदने की जरूरत है।

नियम 4: रिटर्न को अधिकतम करने के लिए प्रोटेक्टिंग रिटर्न पर स्विच करें

स्थिर Asset Allocation को बनाए रखने का खतरा यह है कि जब आपके फाइनेंसियल गोल या रिटायरमेंट के साल करीब होते हैं, तो आपके पोर्टफोलियो की इक्विटी वैल्यू गिर सकती है। इसे रोकने के लिए आप अपने फाइनेंसियल गोल के मैच्योरिटी होने या रिटायरमेंट के साल के शुरू होने से पहले पिछले 5-10 सालों में इक्विटी के लिए अपने जोखिम को धीरे-धीरे कम कर सकते हैं और डेट के लिए जोखिम बढ़ा सकते हैं, क्योंकि डेट इक्विटी की तुलना में काफी सुरक्षित है।

ये भी पढ़े -

What is Asset Allocation in Hindi : निवेश में एसेट एलोकेशन का मतलब क्या है? जानिए

Diversified Investment: अपने निवेश पोर्टफोलियो को करना चाहते है डायवर्सिफाई? तो इन 5 तरीकों को अपनाएं

चुटकियों में सीख जाएंगे Mutual फंड का पूरा गणित, क्लिक कर जानें MF से संबंधित महत्वपूर्ण शब्दावली

Hybrid Fund in Hindi: Hybrid Fund Kya hai? और इसमें निवेश करने का फायदा क्या है, जानें

Next Story