आर्थिक

Credit Card लेना चाहते है? तो पहले जानें कितने तरह के होते है क्रेडिट कार्ड, अपने लिए कैसे चुने बेस्ट

Ankit Singh
18 Jun 2022 10:26 AM GMT
Credit Card लेना चाहते है? तो पहले जानें कितने तरह के होते है क्रेडिट कार्ड, अपने लिए कैसे चुने बेस्ट
x
Types of Credit Card: इन दिनों भारतीय बाजार में विभिन्न तरह के क्रेडिट कार्ड उपलब्ध है। ऐसे में अगर आप क्रेडिट कार्ड लेना चाहते है तो आपको यह जानना आवश्यक है कि भारत में कितने प्रकार के क्रेडिट कार्ड उपलब्ध है।

Types of Credit Card: पहले लोग साहूकार से उधार लेते थे, फिर बैंक आते थे और अब एक व्यक्ति को अपने क्रेडिट कार्ड पर क्रेडिट लिमिट मिलती है जिससे उसे पैसे खर्च करने और बाद की तारीख में वापस भुगतान करने में मदद मिलती है। आजकल लोग फिजिकल करेंसी की तुलना में प्लास्टिक करेंसी का उपयोग करना पसंद करते हैं क्योंकि यह सुरक्षित और परेशानी मुक्त साबित होती है। यहां प्लास्टिक करेंसी डेबिट कार्ड और क्रेडिट कार्ड दोनों हो सकती है।

क्रेडिट कार्ड के लिए आवेदन करने के लिए कुछ मानदंडों को पूरा करने की आवश्यकता होती है जैसे न्यूनतम आय, इनकम का सोर्स, क्रेडिट हिस्ट्री, आदि। भारत में अधिकांश बैंक क्रेडिट कार्ड प्रदान करते हैं, कोई भी कार्ड की विस्तृत श्रृंखला से चुन सकता है जो सबसे उपयुक्त हैं। लेकिन इसके लिए आपको यह जानना आवश्यक है कि भारत में कितने प्रकार के क्रेडिट कार्ड उपलब्ध है और अपनी जरूरत और खर्चों के हिसाब से आपके लिए कौन सा क्रेडिट कार्ड सही रहेगा।

क्रेडिट कार्ड के प्रकार | Type of Credit Card in India

1) प्रीमियम कार्ड (Premium Card)

जैसा कि नाम से पता चलता है कि ये कार्ड कार्ड होल्डर को बेहतर सर्विस प्रदान करते हैं और हाई लिमिट भी। इन कार्डों से जुड़े कई रिवॉर्ड भी हैं। इन क्रेडिट कार्डों के टारगेट ऑडियंस HNIs और कॉरपोरेट्स में टॉप मैनेजमेंट हैं।

2) कैश बैक क्रेडिट कार्ड (Cash Back Credit Cards)

इस प्रकार के कार्ड ग्राहक को डिस्काउंट प्रदान करते हैं। यह संभव है क्योंकि जब आप खरीदारी करते हैं, तो आपके व्यापारी को क्रेडिट कार्ड प्रदाता को एक छोटी राशि का भुगतान करना पड़ता है। कुछ क्रेडिट कार्ड जारीकर्ता कार्डधारकों के साथ रिबेट कैश बैक और यहां तक ​​कि डिस्काउंट देकर कमीशन साझा करते हैं। आम तौर पर यह राशि 0.25% से 1.5% के बीच होती है। इस प्रकार के कार्डों के टारगेट ऑडियंस कामकाजी लोग हैं।

3) सिक्योर्ड क्रेडिट कार्ड (Secured Credit Cards)

यह एक प्रकार का कार्ड है जो कार्डधारक के सेविंग बैंक एकाउंट द्वारा सुरक्षित किया जाता है जिसके लिए कार्ड धारक को क्रेडिट की कुल राशि का 100% से 200% जमा करना होगा। अगर क्रेडिट कार्ड धारक चूक करता है तो क्रेडिट कार्ड जारीकर्ता जमा राशि से राशि की वसूली कर सकता है। इस प्रकार के कार्ड के टारगेट ऑडियंस स्टूडेंट और खराब क्रेडिट हिस्ट्री वाले लोग हैं।

4) बिजनेस क्रेडिट कार्ड (Business Credit Cards)

ये कार्ड बिजनेस ओनर्स और एक्जीक्यूटिव के लिए उपलब्ध हैं। वे कमोबेश प्रीमियम कार्ड के समान हैं। यह बिजनेस के मालिकों को पर्सनल और बिजनेस पर्पज के लिए अलग-अलग लेनदेन करने में सक्षम बनाता है।

5) प्रीपेड क्रेडिट कार्ड (Prepaid Credit Cards)

ये प्रीपेड कार्ड की तरह हैं , कुछ हद तक डेबिट कार्ड के समान हैं। वे अभी Pay Now की थीम पर काम करते हैं और आपकी सुविधा के अनुसार प्रीपेड मोबाइल फोन कार्ड के समान ही उपयोग करते हैं। कार्डधारक को वांछित राशि लोड करने की आवश्यकता है जिसका वह उपयोग करना चाहता है। कोई ब्याज शुल्क नहीं है लेकिन खरीदारी शुल्क और मासिक शुल्क लगाया जाता है। इन कार्डों के लिए टारगेट ऑडियंस स्टूडेंट्स, कामकाजी लोग हैं।

कार्ड के इन वाइड रेंज में से कोई भी चुन सकता है। उपरोक्त सभी क्रेडिट कार्ड में क्रेडिट लिमिट एक महत्वपूर्ण विशेषता है जो क्रेडिट इतिहास और क्रेडिट कार्ड धारक की आय के आधार पर दी जाती है।

ये भी पढ़ें -

Credit Card Jargon in Hindi: अपने क्रेडिट कार्ड को बेहतर तरीके से जानने के लिए पहले समझें शब्दजाल

Credit Card से हो गए है परेशान और कराना चाहते है बंद? तो जरूर रखें इन बातों ध्यान

सबसे कम ब्याज दर वाले क्रेडिट कार्ड की तलाश में है? तो ये 14 Credit Card आपके लिए रहेंगे बेस्ट

कभी सोचा है, क्रेडिट कार्ड Cashback क्यों देते हैं? जानिए इसके पीछे का सच

खरीदारी ही नहीं, इंश्योरेंस कवर भी देते हैं क्रेडिट कार्ड, जानिए Credit Card Insurance Benefits

Next Story