आर्थिक

Credit Card पर लगते है इतने प्रकार के 'हिडन चार्जेस', अप्लाई करने से पहले जरूर जान लें ये बातें

Ankit Singh
22 Dec 2021 12:13 PM GMT
Credit Card पर लगते है इतने प्रकार के हिडन चार्जेस, अप्लाई करने से पहले जरूर जान लें ये बातें
x
Credit Card Hidden Charges: क्रेडिट कार्ड देने से पहले बैंक दावे के साथ कहती है कि यह मुफ्त है। क्रेडिट कार्ड (Credit Card) को वाकई में मुफ्त होता है लेकिन इस पर लगने वाला हिडन चार्ज आपसे छुपाया जाता है। अगर ग्राहक इसपर गौर न करें तो वह कर्ज के जाल में बुरी तरह फंस सकता है, इसलिए इस पोस्ट में समझते है क्रेडिट कार्ड में लगने वाले शुल्क के बारे में।

क्रेडिट कार्ड खरीदना एक बहुत बड़ा मील का पत्थर है। इसे खरीदने के लिए जितना उत्साह होता है, उतने ही उत्साह से ग्राहक इसके नियम और शर्तों को नहीं पढ़ते है। बैंक आपसे आपसे यह तो कहती है कि Credit Card मुफ्त है, लेकिन क्रेडिट लेने से पहले आपको सावधान और सतर्क रहना चाहिए। इसमें कोई संदेह नहीं है कि क्रेडिट कार्ड (Credit Card) से जुड़े सैकड़ों लाभ हैं, लेकिन फैक्ट यह है कि इसका बेवजह उपयोग आपकी फाइनेंसियल कंडीशन को काफी बुरी तरह से नुकसान पहुंचाता है, आपके आर्थिक रूप से तनावग्रस्त होने की तो बात ही छोड़ दें।

आपको Credit Card चुनने में किसी तरह की परेशानी न हो इसलिए हमने विभिन्न क्रेडिट कार्ड शुल्कों की एक सूची तैयार की है जो आपको नए क्रेडिट कार्ड के लिए आवेदन करने से पहले जरूर पता होनी चाहिए। बता दें कि Credit cards पर कई त्तरः के हिडन चार्जेस बैंक द्वारा वसूले जाते है और यह बातें बैंक आपको नहीं बताती है, पर यह शर्ते डाक्यूमेंट्स में लिखी होती है, जिनपर ग्राहक ध्यान नहीं देते है।

क्रेडिट कार्ड हिडन चार्जेस क्या हैं?

यहां कई प्रकार के Credit Card Charges की एक सूची दी गई है जो आपको क्रेडिट कार्ड खरीदते समय चुकाने होंगे-

Annual Maintenance Charges

इसे 'वार्षिक शुल्क' के रूप में जाना जाता है। वार्षिक रखरखाव वर्ष में केवल एक बार लिया जाता है। यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि वार्षिक रखरखाव की राशि अलग अलग हो सकती है। इसके अलावा, कुछ ऐसे बैंक हैं जो मुफ्त क्रेडिट कार्ड देते है लेकिन एक निश्चित अवधि के लिए। टाइम लिमिट ओवर होने के बाद आपको एनुअल मेंटेनेंस चार्ज देना पड़ता है। तो कार्ड लेने से पहले यह पता जरूर कर लें।

Cash Advance Fee

प्रत्येक क्रेडिट कार्ड यूजर्स की एक लिमिट मनी होती है जिसे वह क्रेडिट कार्ड का उपयोग करके एटीएम से निकाल सकता है। यह लिमिट जो मूल रूप से यूजर्स की कुल क्रेडिट लिमिट का एक हिस्सा है, नकद सीमा के रूप में जानी जाती है। यह ध्यान रखना जरूरी है कि बैंक कैश निकलने के लिए बहुत अधिक चार्ज (निकासी गई राशि का लगभग 2.5%) लेते हैं। इसके अलावा जिस दिन से पैसा निकाला जाता है, उस दिन से ब्याज लिया जाता है।

Over-limit Fee

कुछ बैंक अपने क्रेडिट कार्ड यूजर्स को क्रेडिट लिमिट से अधिक राशि खर्च करने की अनुमति दे सकते हैं। हालांकि यह मुफ्त में नहीं दिया जाता है। इसपर बैंक मोटी रकम वसूल करते हैं। आमतौर पर कम से कम 500 रु क्रेडिट लिमिट ओवर होने पर लिया ही जाता और आप इसे जितना देर से चुकाएंगे, जर्स राशि पर ब्याज बढ़ता जाता है।

Late Payment Fee

अगर किसी तरह यूजर्स अपने बकाया क्रेडिट का समय पर भुगतान करने में विफल रहते हैं, तो उन्हें कुल शेष राशि में से आंशिक राशि का भुगतान करने का विकल्प मिलता है। अगर क्रेडिट कार्ड होल्डर न्यूनतम राशि का भुगतान भी नहीं कर सकता है, तो बैंक एक चार्ज लेती है जिसे लेट पेमेंट फीस कहती है।

Interest Rate

ब्याज दर या एनुअल परसेंटेज रेट (APR) की वह राशि है जो बैंकों द्वारा तब ली जाती है जब यूजर्स बिलिंग चक्र के अंत में अपने क्रेडिट कार्ड बिल के रूप में कुल बकाया राशि का भुगतान करने में विफल रहते हैं। यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि क्रेडिट कार्ड बिलों पर लगाया जाने वाला एपीआर अन्य सभी प्रकार के लोन की तुलना में सबसे अधिक है।

Goods and Services Tax

सरकार के नियमों के अनुसार, सभी क्रेडिट कार्ड यूजर्स अपने क्रेडिट कार्ड लेनदेन पर जीएसटी का भुगतान करने के लिए बाध्य हैं। यह GST चार्जेस वार्षिक शुल्क, ब्याज भुगतान और EMI प्रोसेसिंग चार्जेस पर लगता है। वर्तमान में 18% GST तय है।

Foreign Currency Mark-up Fee

क्रेडिट कार्ड दुनिया भर में एक्सेप्ट किए जाने के लिए जाने जाते हैं, फिर भी कुछ शुल्क हैं जो विदेशी लेनदेन पर लगाए जाते हैं, जिन्हें फॉरेन करेंसी मार्क-अप फीस के रूप में जाना जाता है। यह शुल्क एक क्रेडिट कार्ड से दूसरे क्रेडिट कार्ड में अलग अलग हो सकता है और आम तौर पर कुल लेनदेन राशि के एक निश्चित प्रतिशत के रूप में लिया जाता है।

इन बातों का भी रखें ध्यान-

क्रेडिट कार्ड के साथ बहुत सारे हिडन चार्जेस जुड़े होते हैं। अगर आप कार्ड खरीदने से पहले इन क्रेडिट कार्ड चार्जेस से अवगत नहीं हैं, तो आप बाद में निराश और ठगा हुआ महसूस कर सकते हैं। इसलिए उन सभी खर्चों के बारे में जानें जो आपको बाद में उठाने पड़ सकते हैं। आपके क्रेडिट कार्ड में वार्षिक शुल्क, या विदेशी लेनदेन पर अतिरिक्त शुल्क, बिलों के देर से भुगतान पर ब्याज दर शुल्क, नकद निकासी पर अतिरिक्त शुल्क आदि हो सकते हैं। जिन्हें शुरू में नया कार्ड खरीदते समय हाइलाइट नहीं किया जाता है। इसलिए नए क्रेडिट कार्ड से जुड़े सभी संबंधित नियमों और शर्तों को पढ़ना बहुत जरूरी है।

ये भी पढें-

घर बनवाने के लिए लेना चाहते हैं लोन? तो ये 10 तरह के Home Loan आपके लिए हो सकते है मददगार

सेक्शन 80C के अलावा भी आप ले सकते टैक्स छूट का फायदा, यहां जानिए 5 जबरदस्त विकल्प

Term Loan Kya Hai? : what is Term Loan in Hindi

इमरजेंसी में आपको हैं पैसों की जरूरत? तो ये 5 तरह के 'शॉर्ट टर्म लोन' आपके लिए रहेंगे सबसे बेहतर

Zest Money Kya Hai? : जेस्ट मनी से लोन कैसे ले? | How to Use Zest Money in Hindi

Next Story