आर्थिक

IPO में पहली बार करने जा रहे है निवेश? तो इन 5 बातों का जरूर रखें ध्यान, वरना बाद में होगा पछतावा

Ankit Singh
5 Feb 2022 7:20 AM GMT
IPO में पहली बार करने जा रहे है निवेश? तो इन 5 बातों का जरूर रखें ध्यान, वरना बाद में होगा पछतावा
x
IPO: बीतें कुछ सालों से मनी मार्केट में लोगों रुझान बढ़ा है। इसी कड़ी में कई नई कंपनियां इनिशियल पब्लिक ऑफर (IPO) लेकर आ रही है। तो अगर आप पहली बार IPO में निवेश का प्लान बना रहे है तो यहां बताई गई 5 बातों पर ध्यान जरूर दें।

IPO: भारत ने पिछले एक साल में बड़ी संख्या में कंपनियों ने अपनी इनिशियल पब्लिक ऑफर (IPO) जारी की है और इनमें अभूतपूर्व प्रतिक्रियाएं देखी हैं। एक साल के उछाल और रिकॉर्ड निवेश को देखने के बाद दर्जनों स्टार्टअप और कंपनियां दलाल स्ट्रीट (BSE) पर लिस्टेड होने के लिए लाइन में हैं। अब तक, 30 से अधिक IPO सेबी से मंजूरी की प्रतीक्षा कर रहे हैं और कुछ कंपनियां मार्केट रेगुलेटर की निगरानी में हैं। LIC IPO जिसे भारत में अब तक का सबसे बड़ा आईपीओ कहा जा रहा है, उसे जल्द ही सरकार द्वारा संकेत दिए जाने की भी उम्मीद है।

कंपनियां जितना IPO लाने की कोशिश कर रही हैं, निवेशक भी उनके साथ जुड़ने की कोशिश कर रहे है। हालांकि आप पहली बार IPO में निवेश करने का प्लान बना रहे है तो आपको कुछ बातों का ध्यान रखना चाहिए।

IPO में निवेश करने से पहले ध्यान रखने योग्य मुख्य बातें

1. बैकग्राउंड की जांच करें

किसी भी प्रकार के स्टॉक, विशेष रूप से IPO में निवेश करने से पहले कंपनी के अतीत को पढ़ना हमेशा जरूरी होता है। निवेश करने से पहले, आपको हमेशा कंपनी के फाइनेंसियल हिस्ट्री की जांच करनी चाहिए और इसके ग्रोथ की क्षमता को समझना चाहिए। इससे यह भी पता चलेगा कि संबंधित कंपनी IPO क्यों ला रही है।

2. रेड हेरिंग प्रॉस्पेक्टस पढ़ें

पब्लिक ऑफर शुरू करने से पहले कंपनियों को अनिवार्य रूप से SEBI के साथ एक ड्राफ्ट रेड हेरिंग प्रॉस्पेक्टस (DHRP) जमा करना होता है। यहां, कंपनी IPO से प्राप्त इनकम का उपयोग करने की योजना के बारे में डिटेल देती है और यह भी बताती है कि जोखिम क्या हो सकते हैं।

3. फंड का उद्देश्य

अगर जुटाए गए फंड का उपयोग कंपनी के ऋणों को चुकाने के लिए किया जाता है, तो IPO में निवेश करना उचित नहीं है। हालांकि अगर कंपनी सामान्य कॉर्पोरेट उद्देश्यों के लिए इसका एक हिस्सा उपयोग करती है या आगे फंड जुटाती है तो निवेशकों को आश्वासन दिया जा सकता है कि ग्रोथ की संभावना है।

4. कंपनी के वैल्यूएशन की जांच करें

अपनी पसंद के IPO में निवेश करने से पहले, आपको कंपनी के वैल्यूएशन के माध्यम को जानना चाहिए। इंडस्ट्री के पैरामीटर के आधार पर ऑफ़र की कीमत का कम मूल्यांकन अधिक मूल्य या सही मूल्यांकन किया जा सकता है। इसके अलावा पिछले कुछ वर्षों में फर्म के फाइनेंसियल परफॉरमेंस की जांच करना जरूरी है। अगर कंपनी प्रदर्शन के मामले में अच्छा कर रही है तो उस IPO में निवेश करना एक अच्छा विकल्प हो सकता है।

5. निवेशक के इरादे

यह समझना हमेशा जरूरी होता है कि एक निवेशक के रूप में आप IPO से क्या चाहते हैं। अगर आपका त्वरित लाभ की तलाश में है और लंबे समय तक शेयर नहीं रखना चाहते है तो आपको बाजार की भावनाओं के आधार पर IPO का चयन करना चाहिए। आप लंबी अवधि के मुनाफे के साथ IPO चुनने का विकल्प भी चुन सकते हैं, जो इस बात पर निर्भर करेगा कि कंपनी अपनी रणनीतियों के साथ खुद को कैसे स्थापित करती है।

ये भी पढें-

What is IPO in Hindi : IPO kya hai? : आईपीओ में कैसे करें निवेश, विस्तार से जानें

NFO Kya Hai? | म्यूच्यूअल फंड में NFO क्या होता है और यह IPO से कितना अलग है? जानिए सबकुछ

What is Share Market in Hindi: शेयर मार्केट भारत में कैसे काम करता है? यहां विस्तार से समझिए

Mutual Fund Kya Hai? | म्यूच्यूअल फण्ड कितने प्रकार के होते है? | Mutual Fund in Hindi

TagsIPO 
Next Story