आर्थिक

नाबालिग के नाम पर भी खुलवाया जा सकता है Demat Account, लेकिन पूरी करनी होगी ये शर्त

Ankit Singh
13 April 2022 5:56 AM GMT
नाबालिग के नाम पर भी खुलवाया जा सकता है Demat Account, लेकिन पूरी करनी होगी ये शर्त
x
Minor Demate Account in Hindi: शेयर मार्केट ट्रेडिंग के लिए डिमैट एकाउंट जरूरी है, लेकिन क्या आप जानते है कि नाबालिग के नाम पर भी डिमैट खाता खुलवाया जा सकता है। यहां जानिए नाबालिग के लिए डिमैट खाता कैसे खोले? (How to Open Demat Account for Minors)

Demat Account for Minors: किसी कंपनी की सिक्योरिटीज को इलेक्ट्रॉनिक फॉर्मेट में रखने के लिए डीमैट खाता (Demat Account) आवश्यक है। कोई भी आसानी से डीमैट खाता खोल सकता है और सिक्योरिटीज रख सकता है। लेकिन क्या आप जानते है कि नाबालिग के लिए भी डीमैट एकाउंट खोला जा सकता है। नाबालिग उस व्यक्ति को संदर्भित करता है जिसकी आयु 18 वर्ष से कम है। नाबालिग के खाते में शेयर आमतौर पर IPO एलोकेशन के रूप में प्राप्त होते हैं।

हालांकि नाबालिग के लिए डिमैट खाता खोलने के लिए कुछ शर्तें होती है, जो हम इस लेख में आपको बताने वाले है। तो आइए समझते है कि नाबालिग के लिए डिमैट खाता कैसे खोले? (How to Open Demat Account for Minors) और इसके लिए शर्तें क्या क्या है।

भारतीय अनुबंध अधिनियम, 1872 के अनुसार, नाबालिग किसी भी कॉन्ट्रैक्ट या एग्रीमेंट के पक्षकार नहीं हो सकते हैं, लेकिन कंपनी अधिनियम किसी भी उम्र के व्यक्ति को कंपनी की सिक्योरिटीज को रखने की अनुमति देता है। इस प्रकार, नाबालिग के नाम पर डीमैट खाता खोलने की अनुमति है।

आम तौर पर एक नाबालिग का डीमैट एकाउंट उनकी भविष्य की जरूरतों और खर्चों जैसे शिक्षा की जरूरतों, शादी के फंड, नौकरियों के ट्रांसफर और किसी भी अन्य खर्च के लिए धन का ट्रैक रखने के लिए खोला जाता है। इसके अलावा, नाबालिग आर्थिक रूप से साक्षर हो जाएगा और बचत और निवेश के बारे में जागरूक हो जाएगा।

नाबालिग के नाम से डीमैट एकाउंट दो तरह से खोले जा सकते हैं-

  1. नेचुरल गार्जियन, यानी माता-पिता के माध्यम से
  2. न्यायालय द्वारा नियुक्त अभिभावकों अर्थात कानूनी अभिभावक के माध्यम से

डीमैट खाता खोलने और संचालित करने के लिए एक अभिभावक को नाबालिग की ओर से सभी फॉर्मेलिटीज पूरी करनी होती हैं। नाबालिग के नाम पर खाता खोलने की प्रक्रिया रेगुलर डीमैट एकाउंट खोलने के समान है। इसके लिए एक स्टैण्डर्ड डीमैट एकाउंट खोलने का फॉर्म भरना होगा।

नाबालिगों के लिए डीमैट खाता कैसे खोले? | How to Open Demat Account for Minors

  • एकाउंट खोलने का फॉर्म अभिभावक द्वारा भरा जाना चाहिए।
  • दो अलग-अलग KYC फॉर्म, एक अभिभावक के लिए और दूसरा नाबालिग के लिए, खाता खोलने के फॉर्म के साथ उपलब्ध कराने होंगे।
  • नाबालिग और अभिभावक दोनों के लिए पहचान और पता स्थापित करने की KYC फॉर्मेलिटीज पूरी करनी होंगी।
  • जन्म तिथि और दस्तावेजी प्रमाण (जन्म प्रमाण पत्र) देना होगा।
  • सभी दस्तावेजों पर अभिभावक के हस्ताक्षर होने चाहिए।
  • नाबालिग और अभिभावक का पैन और पता प्रमाण संलग्न करना होगा।
  • AOF के साथ नाबालिग के नाम का बैंक प्रूफ जमा करना होगा।
  • इन सभी दस्तावेजों को जमा करने पर एक डीमैट खाता खोला जाएगा।

नाबालिग डीमैट एकाउंट की शर्तें | Minor Demat Account Terms

यह ध्यान दिया जाना चाहिए, कि नाबालिग के नाम पर एक डीमैट खाते में एक जॉइंट होल्डर और नामांकित व्यक्ति नहीं हो सकता है और खाते में डिलीवरी के आधार पर सिक्योरिटीज को रखा जा सकता है। नाबालिग अपने डीमैट एकाउंट के माध्यम से IPO और बायबैक ऑफर के लिए आवेदन कर सकता है। माता-पिता अपने सभी बच्चों के डीमैट खातों के अभिभावक हो सकते हैं।

नाबालिग के नाम पर ट्रेडिंग अककूनय का उपयोग इक्विटी में इंट्राडे ट्रेडों, इक्विटी डेरिवेटिव्स में ट्रेडिंग और करेंसी डेरिवेटिव ट्रेडिंग के लिए नहीं किया जा सकता है। इसके अलावा, फ़्यूचर्स और ऑप्शंस जैसे फाइनेंसियल डेरिवेटिव्स का भी नाबालिग के डीमैट खाते का उपयोग करके कारोबार नहीं किया जा सकता है।

डीमैट खाता केवल अभिभावक द्वारा तब तक संचालित किया जा सकता है जब तक कि नाबालिग वयस्क न हो जाए। बालिग होने पर नाबालिग का डीमैट खाता तब तक अनुपयोगी हो जाता है जब तक कि सहायक दस्तावेजों (री-केवाईसी) के साथ एक नया खाता खोलने का फॉर्म जमा नहीं किया जाता है, अगर उक्त नाबालिग कोई प्रतिभूति रखना चाहता है।

डीमैट खाते से हुई कमाई से नाबालिग पर कोई टैक्स नहीं लगता है। नाबालिग की आय या तो उनके माता-पिता की आय में जोड़ दी जाती है, यानी माता-पिता जिनकी आय अधिक है या अभिभावक की आय।

अभिभावक की मृत्यु के मामले में, खाते को फ्रीज करने के लिए मृत्यु प्रमाण पत्र की एक नोटरीकृत प्रति प्रदान की जानी चाहिए और एक नया अभिभावक नियुक्त करने के लिए दस्तावेज पूरा होने के बाद, खाते को सामान्य स्थिति में फिर से एक्टिव किया जा सकता है।

बच्चों को बचत के महत्व को समझाने में एक नाबालिग खाता अत्यधिक उपयोगी है जो भविष्य में बहुत मददगार होगा। वे सही वित्तीय साधनों में निवेश के महत्व को भी जानेंगे और वित्तीय नियोजन को समझेंगे।

ये भी पढ़ें -

शेयर मार्केट में निवेश के लिए डीमैट अकाउंट जरूरी, जानिए Demat Account से जुड़ी हर छोटी-बड़ी बात

Trading Account Kya hai? | ट्रेडिंग एकाउंट कैसे खोले? | Trading Account Kaise Khole?

इन दो तरीके से करिए अपने शेयर को एक डीमैट से दूसरे डीमैट अकाउंट में ट्रांसफर.

Next Story