आर्थिक

आप एक बिजनेस के मालिक हैं? तो जानें बिजनेस इनकम पर इनकम टैक्स की गणना कैसे की जाती है?

Ankit Singh
8 April 2022 11:02 AM GMT
आप एक बिजनेस के मालिक हैं? तो जानें बिजनेस इनकम पर इनकम टैक्स की गणना कैसे की जाती है?
x
Business Income Tax calculation: अगर आप किसी व्यवसाय के मालिक है तो इनकम टैक्स कैलकुलेटर से इनकम टैक्स की गणना कर सकते है, लेकिन भारत में बिजनेस इनकम पर कितना इनकम टैक्स लगाया जाता है? यह जानना जरूरी है।

Business Income Tax in India: अगर आप अपना खुद का बिजनेस चला रहे है तो आपनो इनकम से प्राप्त होने वाली आये पर इनकम टैक्स भी देना पड़ेगा। इसकी गणना आप ऑनलाइन इनकम टैक्स कैलकुलेटर से कर सकते है। लेकिन आपके लिए यह जानना जरूरी है कि भारत में बिजनेस इनकम पर टैक्स कैसे लगाया जाता है।

तो अगर आप पहले से ही एक व्यवसाय के मालिक हैं या शुरू करने की योजना बना रहे हैं, तो यहां कुछ सबसे महत्वपूर्ण बातें हैं जो आपको बिजनेस इनकम टैक्स के बारे में जाननी चाहिए-

बिजनेस टैक्स प्रावधान | Business Tax Provision

सबसे पहले आपको अपने बिजनेस की टैक्स योग्य इनकम को जानना होगा। Normal Provision और Presumptive Taxation दो अलग-अलग तरीके हैं जिनसे आप टैक्स योग्य बिजनेस इनकम की गणना कर सकते हैं। नार्मल प्रोविशन के साथ, टैक्स योग्य आय की गणना कुल बिक्री से बेची गई वस्तुओं और खर्चों की लागत को घटाकर की जाती है।

Presumptive Taxation के साथ आपकी टैक्स योग्य इनकम आपकी कुल बिक्री का एक निश्चित प्रतिशत है। हालांकि, भारत में व्यापार नियमों के लिए आयकर के अनुसार Presumptive Taxation योजना केवल उन व्यवसायों के लिए उपलब्ध है जिनका कारोबार 2 करोड़ रुपए से अधिक है।

बिजनेस के लिए टैक्स की दर | Tax Rate for Business

अगला कदम यह है कि आप जिस इनकम स्लैब के अंतर्गत आते हैं, उसकी जांच करें। तीन केटेगरी में कई टैक्स स्लैब हैं। 60 साल से कम उम्र के लोगों के लिए, 60 से 80 साल के बीच के सीनियर्स और 80 साल से ऊपर के सुपर सीनियर्स के लिए। इन कैटेगरी के तहत स्लैब की दरें अलग-अलग हैं।

उदाहरण के लिए अगर आपका कोई व्यवसाय है और आपकी आयु 60 वर्ष से कम है, तो भारत में व्यवसाय के लिए आपका इनकम टैक्स इन स्लैबों पर आधारित होगा-

  • 2.5 लाख रुपये तक की आय - शून्य
  • 2.5 लाख से 5 लाख रुपये के बीच आय - 5%
  • 5 लाख से 10 लाख रुपये के बीच आय - 20%
  • 10 लाख रुपये से ऊपर की आय - 30%

सरचार्ज और सेस | Surcharge and Cess

अगर आपकी वार्षिक आय 5 लाख से 1 करोड़ रुपए के बीच है तो आपको बिजनेस पर इनकम टैक्स से ऊपर 10% का सरचार्ज देना होगा। अगर यह 1 करोड़ रुपये से ऊपर है तो सरचार्ज 15% होगा। 4% का एडिशनल हेल्थ और एजुकेशन सेस भी है।

अगर आपके पास लिमिटेड लियाबिल्टी पार्टनरशिप या फर्म है, और आपकी टैक्स योग्य आय 1 करोड़ रुपए है तो टैक्स की दर 30% है। लेकिन अगर आपकी कंपनी है तो आपका टर्नओवर 250 करोड़ से कम रहता है तो टैक्स की दर 25% होगी।

ये भी पढ़ें -

गेम शो, लॉटरी या ऑनलाइन गेमिंग की जीत पर कितना टैक्स लगता है? जानें कहां कटता है क‍ितना ह‍िस्‍सा

Green Tax in Hindi: Green Tax Kya Hai? | जानिए क्यों वसूला जाता है ग्रीन टैक्स?

Advantage and Disadvantages Of Indirect Taxes: इनडायरेक्ट टैक्स के फायदें और नुस्कान क्या है?

Raod Tax Kya hai? इसकी गणना कैसे की जाती है और इसका भुगतान कैसे करें? जानिए यहां सबकुछ

Next Story