आर्थिक

IPO में निवेश करने जा रहे हैं? तो पहले जान लें आईपीओ में निवेश करने के फायदे और नुकसान

Ankit Singh
6 July 2022 6:00 AM GMT
IPO में निवेश करने जा रहे हैं? तो पहले जान लें आईपीओ में निवेश करने के फायदे और नुकसान
x
आपको आईपीओ में निवेश करने से पहले ये जान लेना जरूरी हैं कि किन बातों को ध्यान में रखना चाहिए। आईपीओ में जितना फायदा होने का चांस होता है उतना ही नुकसान होने का भी चांस होता है।

Advantages and Disadvantages of Investing in IPO: एक सिक्योरिटीज मार्केट वस्तुओं और सेवाओं के लिए किसी भी अन्य बाजार के समान है क्योंकि डिमांड और सप्लाई का कांसेप्ट यहां भी लागू होता है। डिमांड और सप्लाई के आधार पर सिक्योरिटीज की खरीद-बिक्री भी की जाती है। प्राइमरी मार्केट में कंपनियां सीधे जनता को शेयर बेचती हैं। बिक्री या तो एक इनिशियल पब्लिक ऑफरिंग (IPO) या एक फॉलोऑन पब्लिक ऑफरिंग (FPO) हो सकती है। एक IPO पहला सार्वजनिक (Public) प्रस्ताव है, IPO के बाद अन्य सभी सार्वजनिक प्रस्तावों को NFO कहा जाता है। एक FPO में सार्वजनिक निवेशकों को IPO की तुलना में कंपनी के बारे में अधिक जानने का फायदा होता है।

भारतीय कंपनियों को अपनी सार्वजनिक हिस्सेदारी बढ़ाने में मदद करने के लिए, SEBI ने एक अतिरिक्त तरीके की अनुमति दी है जिसके माध्यम से सूचीबद्ध कंपनियों के प्रमोटर स्टॉक एक्सचेंजों के माध्यम से बिक्री की पेशकश कर सकते हैं।

एक कंपनी को IPO के लिए खुद को तैयार करने की जरूरत होती है और आमतौर पर IPO से संबंधित सभी गतिविधियों के समन्वय को सुनिश्चित करने के लिए कंपनी में एक IPO टीम की स्थापना की जाती है। प्रोस्पेक्टस तैयार करने के लिए टीम समय पर और सटीक जानकारी प्रदान करती है। यह टीम पूरी प्रक्रिया का समन्वय करती है और कानूनी अनुपालन सुनिश्चित करती है।

आईपीओ में निवेश करने के फायदे | Benefits of investing in IPO

आप सोच रहे होंगे कि जब आप किसी IPO में निवेश करते हैं तो आपको क्या लाभ मिलते हैं। तो बिना किसी देरी के आइए हम पब्लिक ऑफरिंग में निवेश करने के लाभों के बारे में चर्चा करें।

1) जल्दी कार्य करने का अवसर

IPO वह समय होता है जब किसी कंपनी के शेयरों को पहली बार सार्वजनिक निवेशकों के लिए रोल आउट किया जाता है। तो आपको शुरुआती दिनों में अपनी स्थिति में प्रवेश करने का सही अवसर मिलता है। IPO एक संक्षिप्त समय सीमा में त्वरित लाभ वापस लेने में मददगार हो सकता है। आप लंबी अवधि के लिए भी अपने पदों पर बने रह सकते हैं।

2) लंबी अवधि में फायदा

लंबे समय से निवेशकों को आकर्षित करने वाले IPO में निवेश करने का शायद यही मुख्य लाभ है। IPO में निवेश करने से आपको लंबी अवधि में शानदार रिटर्न हासिल करने में मदद मिल सकती है। IPO निवेश एक प्रकार का इक्विटी निवेश है और रिटायरमेंट योजना जैसे दीर्घकालिक लक्ष्यों को पूरा करने के लिए इसका लाभ उठाया जा सकता है।

3) मूल्य पारदर्शिता

IPO में इक्विटी शेयरों के मूल्य मूल्यांकन के बारे में पूरी जानकारी कंपनी द्वारा दायर प्रॉस्पेक्टस में उपलब्ध है और सार्वजनिक रूप से उपलब्ध है। इस प्रकार आपको कुछ महान निवेशकों के समान डेटा तक पहुंच प्राप्त होती है। हालांकि IPO के बाद की स्थिति में यह बदलाव होता है। IPO के बाद की लागत क्षेत्रीय प्रदर्शन और निवेशकों की रुचि में बदलाव पर निर्भर करेगी।

4) छोटे निवेश से बढ़िया रिटर्न मिल सकता है

IPO में कीमत सबसे सस्ती कीमत साबित होती है जो आपको किसी कंपनी के इक्विटी शेयरों में निवेश करने की पेशकश की जाती है जिसमें बड़ा होने की क्षमता होती है। हालांकि स्टॉक की कीमतें लिस्टिंग के समय ही बढ़ सकती हैं और आपको छोटी अवधि में भारी मुनाफा निकालने में मदद करती हैं।

आईपीओ में निवेश करने के नुकसान | Disadvantages of investing in IPO

हर दूसरे निवेश की तरह IPO में भी कुछ कमियां होती हैं। IPO में निवेश करने से पहले इसके नुकसान के बारे में भी जानना जरूरी है, आइए आईपीओ में निवेश करने के नुकसान पर एक नजर डालते हैं।

1) बहुत समय लगेगा

IPO में निवेश करने के लिए आपको कंपनी और उसके पिछले प्रदर्शन के बारे में पूरी तरह से अध्ययन करना होगा। हालांकि यह कंपनी के प्रॉस्पेक्टस में उपलब्ध है लेकिन इसे समझना थकाऊ और समय लेने वाला है।

2) शेयर बेचना एक जोखिम है

आधुनिक समय में कई निवेशक लिस्टिंग लाभ निकालने के लिए सूचीबद्ध होने के बाद शेयरों को बेचने की योजना बनाते हैं। लेकिन ऐसा हमेशा संभव नहीं होता है। आम तौर पर अत्यधिक सफल पेशकशों के साथ बेचना बहुत आसान होता है लेकिन दूसरों के मामले में आपके शेयर खरीदने के लिए खरीदारों की उपलब्धता के संबंध में अनिश्चितता हो सकती है।

3) प्राइवेसी

IPO के लिए आवेदन करने के लिए कागजी कार्रवाई और आवेदन में बहुत सारी निवेशक जानकारी की आवश्यकता होती है। इसमें आपका कुछ डेटा शामिल हो सकता है जो अन्यथा आप नहीं चाहेंगे कि दुनिया देखे। हालांकि आपको वही प्रदान करना चाहिए।

Conclusion -

तो ये आईपीओ में निवेश करने के कुछ प्रमुख फायदे और नुकसान (Advantages and Disadvantages of Investing in IPO) थे। IPO में शेयर लगाने के लिए आपके पास अनिवार्य रूप से एक DEMAT खाता होना चाहिए। यदि आप शेयर बाजार में नए हैं तो कुछ दिशानिर्देश हैं जिनका व्यापार के लिए पालन किया जाना चाहिए। एक बार जब आपको IPO में शेयर आवंटित हो जाते हैं, तो आप उन्हें सामान्य रूप से व्यापार कर सकते हैं।

ये भी पढ़ें-

NFO Kya Hai? | म्यूच्यूअल फंड में NFO क्या होता है और यह IPO से कितना अलग है? जानिए सबकुछ

निवेश के लिये सही IPO का चुनाव कैसे करें? | How to Choose the Right IPO?

IPO में कट-ऑफ प्राइस क्या होता है? | IPO Cut-Off Price in Hindi

IPO कैसे काम करता है? | कंपनियां सार्वजनिक क्यों होती हैं? | IPO Working Process in Hindi

TagsIPO 
Next Story