बॉलीवुड

'पद्मनी कोल्हापुरे' ने किया 'वो' घटना का खुलासा, कहा- "मैं उसे कान के नीचे मारती रही लेकिन वह ...

Janprahar Desk
30 Sep 2022 4:05 PM GMT
पद्मनी कोल्हापुरे ने किया वो घटना का खुलासा, कहा- मैं उसे कान के नीचे मारती रही लेकिन वह ...
x
पद्मनी कोल्हापुरे नब्बे के दशक की सर्वश्रेष्ठ और लोकप्रिय अभिनेत्रियों में से एक है। उन्होंने अपने करियर की शुरुआत बतौर चाइल्ड आर्टिस्ट की थी। उन्होंने कही फिल्मो में छोटे छोटे किरदार निभाए है. उन्होंने जिंदगी, ड्रीम-गर्ल जैसी सुपरहिट फिल्मों में बाल कलाकार के रूप में काम किया।
उन्होंने सत्यम शिवम सुंदरम में जीनत अमान के शुरुआती पात्र को चित्रित किया। राजकपूर की सूझबूझ भरी निगाह ने उसी समय पद्मनी कोल्हापुरे के अभिनय कौशल को पहचान लिया। उन्होंने जीनत अमान के साथ फिल्म इंसाफ का ताराजू के लिए सर्वश्रेष्ठ सहायक अभिनेत्री का फिल्फेयर अवार्ड भी जीता।
एक अमीर जमींदार की बेटी और एक उच्च शिक्षित युवक की प्रेम कहानी पर आधारित यह फिल्म उस समय समाज को अपना आईना दिखा गयी। विधवा लड़की की शादी आज भी हमारे समाज में एक बड़ा मुद्दा है। और इस विषय-वस्तु को राज कपूर ने इस फिल्म में बहुत अच्छी तरह से पेश किया था। पद्मिनी कोल्हापुरे ने हाल ही में एक इंटरव्यू के दौरान इस फिल्म की शूटिंग के दौरान का एक किस्सा बताया।
इसमें वह चिंटू यानी ऋषि कपूर को कान के निचे बजाना था। हालांकि, पद्मिनी कोल्हापुरे इस चित्रीकरण के समय काफी डरी हुई थीं। 'मुझे वास्तव में उन्हें मारने की क्या ज़रूरत है? मैं अभिनय करुँगी और फिर हम इसे एडिट करेंगे, 'उन्होंने यह भी प्रस्ताव रखा। लेकिन, राज कपूर नहीं माने और उन्हें चिंटू यानी ऋषि के कान के नीचे मारने को कहा।
वहीं ऋषि कपूर ने भी बिंदास्त थप्पड़ मारने की सलाह दी। तो आखिरकार पद्मिनी कोल्हापुरे ने उन्हें कान के नीचे मार दिया। लेकिन कई बार लाइट ठीक नहीं होती तो कई बार तकनीकी दिक्कतों की वजह से सीन परफेक्ट नहीं होता। इसी वजह से एक ही चित्रीकरण को हमे आठ बार शूट करना पड़ा।
हालांकि इसके बाद ऋषि कपूर का चेहरा लाल हो गया। आज भी फिल्म 'प्रेम रोग' के कई गाने बहुत लोकप्रिय हैं। ये गलियां ये चौबारा, भावरे ने खिलाये फूल, मोहब्बत है क्या चीज, मेरे किस्मत में तू नहीं शायद जैसे गाने आज भी लोगों की जुबां पर हैं.
Next Story