जो छात्र CBSE की मार्किंग स्कीम से होंगे असंतुष्ट वो अगस्त में दे सकेंगे लिखित परीक्षा: शिक्षा मंत्री निशंक

शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल 'निशंक' ने आज उन छात्रों को राहत की खबर दी है जो केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (CBSE) के मार्किंग स्कीम से खुश नहीं थे। शिक्षा मंत्री में इस बात की जानकारी अपने ट्विटर हैंडल के माध्यम से दी है। 
 
12 student also write exam

शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल 'निशंक' ने आज उन छात्रों को राहत की खबर दी है जो केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (CBSE) के मार्किंग स्कीम से खुश नहीं थे। शिक्षा मंत्री में इस बात की जानकारी अपने ट्विटर हैंडल के माध्यम से दी है। 


ज्ञात हो कि सीबीएसई बोर्ड 10वीं और 12वीं के ऐसे कई छात्र है जो मार्किंग स्कीम से खुश नहीं थे। वह माध्यमिक शिक्षा के मूल्यांकन फॉर्मूले पर सवाल भी उठा चुके थे। दरअसल सीबीएसई ने छात्रों के मूल्यांकन के लिए निचली कक्षाओं को आधार बनाया था। अब जिन 12वीं के छात्रों का अंक कक्षा 10 और 11 वीं कम था, संभवत उनके 12वीं का मूल्यांकन भी कम आंका जाता था। 

लेकिन शिक्षा मंत्री के ट्वीट ने उन तमाम छात्रों को राहत मिली है जो 10 वीं और 12वीं का एग्जाम देना चाहते थे। शिक्षा मंत्री ने ट्वीट के माध्यम से बताया,  "10वीं और 12वीं क्लास के जो स्टूडेंट CBSE के मूल्यांकन फॉर्मूला से संतुष्ट नहीं हैं उन्हें परेशान होने की जरुरत नहीं है। आपके लिए अगस्त में लिखित परीक्षा देने की व्यवस्था की जाएगी।"

यह भी पढ़े:  क्या है धारा 370 और अनुच्छेद 35A? आखिर क्यों जम्मू-कश्मीर में इसपर मचता है बवाल

उन्होंने साफ शब्दों में ये भी कहा, "जो भी छात्र लिखित परीक्षा देगा उसे इस मिले हुए मार्क्स को ही मामना होगा। वह छात्र दोबारा मूल्यांकन फार्मूला के तहत दिए गए मार्क्स की मांग नहीं कर सकेगा"। 

ज्ञात हो कि छात्र और अभिभावक की मांग पर 1 जून को 12वीं बोर्ड की परीक्षा रद्द कर दी गई थी। परीक्षा रद्द करने के बाद सीबीएसई में अपने मूल्यांकन फॉर्मूले को सुप्रीम कोर्ट के समक्ष रखा था। जिसपर सुप्रीम कोर्ट ने हरी झंडी दिखा दी। 

अन्य खबरें

देश और दुनिया की ताज़ा खबरों के लिए हमारे फेसबुक पेजको लाइक करे, हमे Twitterपर फॉलो करे, हमारेयूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब कीजिये|