Kya hai Holi tyohar ka mahatva? होली क्यों मनाई जाती है? Holi par Kavita in Hindi

सामने होली का त्यौहार आने वाला है और लोग अभी से उसकी तैयारियों में लग गए हैं। ऐसे में हम आपके लिए होली पर कुछ कविताएं लेकर आए हैं। उन्हें पढ़े और अपने दोस्तों के साथ भी share करें। 
 
Kya hai Holi tyohar ka mahatva? होली क्यों मनाई जाती है? Holi par Kavita in Hindi

भारत देश त्योहारों का देश है। हमारे देश में साल भर एक के बाद एक त्यौहार लगे ही रहते हैं। ऐसे में अब होली (Holi) का त्योहार सामने आ रहा है। फाल्गुन के महीने में मनाया जाने वाला यह त्योहार पूरे देश में बड़े उत्साह से मनाया जाता है। इस साल होली का त्योहार 28 मार्च, 2021, रविवार को मनाया जाने वाला है (Holi date 2021)। अब जबकि कोरोनावायरस की स्थिति में बच्चे घर पर ही हैं और स्कूल नहीं जा रहे हैं, उन्हें स्कूल का सारा काम घर से ही करना पड़ रहा हैं। ऐसे में अगर बच्चों को होली से संबंधित कोई कविता या निबंध लिखने को दी जाए तो यह उनके लिए मुश्किलदायक हो सकता है। लेकिन हम आपके लिए ऐसे ही कुछ Holi par Kavita लेकर आए हैं जिसकी मदद से आप अपने बच्चों को पढ़ा सकते हैं। इससे पहले जान लेते हैं होली का महत्व | Importance of Holi in Hindi

Importance of holi in Hindi | History of holi in Hindi | Hindi essay on Holi | होली पर हिंदी में निबंध 

हमारे भगवत पुराण के अनुसार भक्त प्रहलाद के पिता हिरण्यकश्यप खुद को भगवान के समान मानते थे। वही उनका बेटा प्रह्लाद भगवान विष्णु का एक बड़ा भक्त था। हिरण्यकश्यप ने अपने बेटे को बहुत बार भगवान की पूजा करने से मना मना किया था लेकिन उनके बेटे ने एक नहीं सुनी। इस बात से नाराज हो उन्होंने अपनी बहन होलिका की मदद से अपने बेटे को मारने की कोशिश की। होलीका जिसे कभी ना जलने का वरदान मिला था प्रह्लाद को लेकर एक चिता पर बैठ गई। लेकिन भगवान विष्णु की मदद से प्रह्लाद सुरक्षित बच निकला और होलिका आग में भस्म हो गई। यह घटना इस बात का संकेत है कि बुराई पर अवश्य अच्छाई की जीत होती है। वह रात भी पूर्णिमा की रात थी और आज भी पूर्णिमा पर ही होली जलाई जाती है और अगले दिन होली का त्यौहार मनाया जाता है।

Hindi poems on Holi | Holi par Kavita in Hindi | हिंदी कविताएं | होली पर कविताएं | होली पर बाल कविता 

  • नरेंद्र वर्मा

होली का त्योहार आया 

खुशियों का स्वागत लाया,
रंगों की उड़ान लाया।
 होली का त्योहार आया 
प्यार की गंगा संग में लाया,
सबके मन को भाया।
 होली का त्योहार आया
 एक दूसरे को रंग में रंगने आया,
 सबके साथ घुल मिलने को आया। 
होली का त्योहार आया 
ग्रीष्म ऋतु को संग लाया,
रंगों और उमंगों की पहचान लाया।
  • गुलशन मदान
रंगों का त्योहार है होली 
खुशियों की बौछार है होली 
लाल गुलाबी पीले देखो 
रंग सभी रंगीले देखो 
पिचकारी भर भर ले आते हैं 
इक दूजे पर सभी चलाते 
होली पर अब ऐसा हाल 
हर चेहरे पर आज गुलाल 
आओ यारों इसी बहाने 
दुश्मन को भी चलो मनाने
  • हरिवंशराय बच्चन
केसर की, कली की पिचकारी 
पात-पात की गात संवारी 
राग-पराग-कपोल किए हैं 
लाल-गुलाल अमोल लिए हैं 
तरु-तरु के तन खोल दिए हैं 
आरती जोत-उदोत उतारी 
गंध पवन की धूप धवारी
अन्य खबरें:

देश और दुनिया की ताज़ा खबरों के लिए हमारे फेसबुक पेजको लाइक करे, हमे Twitterपर फॉलो करे, हमारेयूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब कीजिये|