शिक्षा

Hindi Diwas Speech In Hindi For Students: हिंदी दिवस पर भाषण 2021 जानिए कैसे दें अच्छी स्पीच...

Nairitya Srivastva
13 Sep 2021 9:14 AM GMT
Hindi Diwas Speech In Hindi For Students: हिंदी दिवस पर भाषण 2021 जानिए कैसे दें अच्छी स्पीच, यहां देंखे...
x

Hindi Diwas Speech In Hindi For Students: हिंदी दिवस पर भाषण 2021 जानिए कैसे दें अच्छी स्पीच, यहां देंखे...

हिंदी दिवस का कार्यक्रम लगभग हर संस्थानों में मनाया जाता है. इस मौके पर अगर आपको भी कहीं अच्छी स्पीच देना है (Hindi Diwas Speech In Hindi For Students), तों यहां देखें...

पूरे भारत के सभी हिंदी भाषी क्षेत्रों में हिंदी दिवस मनाया जाता है. हर साल 14 सितंबर को इसका वार्षिक समारोह मनाया जाता है. इस दिन एक सरकारी प्रायोजित कार्यक्रम होता है जिसे पूरे भारत के कार्यालयों, स्कूलों, फर्मों आदि में बेहद उत्साह से मनाया जाता है. इस अवसर का जश्न मनाने के पीछे सरकार का प्राथमिक उद्देश्य हिंदी भाषा की संस्कृति को बढ़ावा देना है. आप भी इस तरह के किसी उत्सव का एक हिस्सा बन सकते हैं. इसके लिए आपको हिंदी की एक बेहतर स्पीच या भाषण ( About hindi diwas par bhashan )देने की आवश्यकता पड़ सकती है. ऐसे अवसर के लिए हम आपको यहां बताएंगे कुछ बढ़िया स्पीच ( hindi diwas speech in hindi for students ) के बारे में जिससे आपको अच्छी मदद मिल सकती है. इन स्पीच ( hindi divas per speech )से आप ऐसे अवसर के लिए तैयारी कर सकते हैं.

1. स्पीच/ हिंदी दिवस पर भाषण: ( Hindi diwas speech in Hindi for students )

आदरणीय प्रधानाचार्य महोदय, उप-प्रधानाचार्य महोदय, माननीय शिक्षक गण एवं मेरे प्रिय साथियों।

आज हिंदी दिवस के मौके पर मैं आप सबके सामने इस विषय पर कुछ पंक्तियां लेकर उपस्थित हूं और आशा करती हूं की यह आप सबको अवश्य रोचक लगेंगे. हर वर्ष 14 सितंबर को हिंदी दिवस के रूप में मनाया जाता है और इस सप्ताह को हिंदी पखवाड़ा कहा जाता है. पूरे विश्व में सबसे जादा बोली जाने वाली भाषाओं मे से हिंदी चौथी है. आज़ादी मिलने के बाद, देश मे अंग्रेजी के बढ़ते उपयोग और हिंदी के बहिष्कार को देखते हुए हिंदी दिवस मनाने का निर्णय लिया गया. 14 सितंबर को 1949 को हिंदी को राजभाषा बनाया गया परंतु गैर हिंदी राज्यों ने इसका बहुत विरोध किया, जिसके कारणवश अंग्रेजी को यह स्थान मिल गया और तब से लेकर आज तक हिंदी के सर्वत्र विकास के लिये हिंदी दिवस मनाया जाता है और हर कार्यालय में हिंदी विभाग बनाया गया. हिंदी को जन-जन तक पहुंचाया जाए और हिंदी को भारत में राष्ट्रभाषा का सम्मान मिल पाए.

धन्यवाद!

2. स्पीच/ हिंदी दिवस पर भाषण: ( Hindi diwas speech in Hindi for students )

यहां उपस्थित सभी बड़ों को मेरा स्नेह भरा नमस्कार।

आज मैं आपके सामने हिंदी दिवस के महत्व के बारे मे कुछ शब्द कहने के लिये उपस्थित हुई हूं और आशा करती हूं की यह आप सबको जरूर ज्ञानवर्धक लगेगी. गांधी जी ने 1918 में हिंदी को राष्ट्रभाषा बनाने कि बात कही थी. जिस पर आगे चल कर 14 सितंबर 1949 को काफी विचार-विमर्श के बाद, हिन्दी को राजभाषा के रूप में संविधान में जोड़ा गया. परंतु गैर हिंदी राज्यों ने इसका जम के विरोध किया जिसकी वजह से, एक गैर भारतीय भाषा अंग्रेजी को भी भारत में दर्जा देना पड़ा और हिन्दी राजभाषा नहीं बन पाया. जिसकी देन है कि आज हमें हिंदी के उत्थान के लिए हिंदी दिवस मनाना पड़ रहा है.

हिंदी के बहिष्कार के बाद से 14 सितंबर को हिंदी दिवस के रूप में मनाया जाने लगा. इतना ही नहीं साथ ही साथ हिंदी सप्ताह का भी आयोजन किया जाने लगा. जिसके तहत निबंध प्रतियोगिता, भाषण, काव्य गोष्ठी, वाद-विवाद जैसी प्रतियोगिताएं कराई जाने लगीं, ताकि लोगों में इस भाषा के प्रति रुचि जागे और वे इन प्रतियोगिताओं में भाग लें और वे इस भाषा के ज्ञान को बढ़ाएं. सभी सरकारी कार्यालयों मे हिंदी विभाग का गठन किया गया जिसका कार्य कार्यालय में सबको हिंदी सिखाना और हिंदी भाषा के महत्व को बढ़ाना है. इस प्रकार हम 14 सितंबर को हिंदी दिवस के रूप में मनाते आए हैं और हिंदी के उत्थान मे अपना योगदान देते रहे हैं और सदा देते रहेंगे.

धन्यवाद।

3. हिंदी दिवस पर भाषण / Hindi diwas par speech: ( Hindi diwas speech in Hindi for students )

आदरणीय प्रधानाचार्य महोदय, शिक्षकगण और यहां उपस्थित मेरे सहपाठी छात्रों आप सभी का इस कार्यक्रम में हार्दिक स्वागत है।

आज हिंदी दिवस के अवसर पर हमारे महाविद्यालय में इस विशेष कार्यक्रम का आयोजन किया गया है. जैसा कि आप सब जानते है कि हिंदी हमारे देश की राजभाषा है और इसके सम्मान के उपलक्ष्य में हर वर्ष 14 सिंतबर को हिंदी दिवस मनाया जाता है क्योंकि हिंदी सिर्फ हमारी राष्ट्र भाषा ही नही बल्कि हमारे विचारों का सरलता से आदान-प्रदान का एक जरिया भी है. वैसे तो हर वर्ष इस दिन हमारे महाविद्यालय में कोई विशेष कार्यक्रम का आयोजन नही होता था, लेकिन इस वर्ष से इस प्रथा को बदला जा रहा है. अब हमारे आदरणीय प्रधानाचार्य महोदय ने यह निर्णय लिया है कि अब प्रत्येक वर्ष इस दिन को बड़े ही धूम-धाम से मनाया जायेगा.

मुझे इस बात की काफी खुशी है कि आज के इस विशेष दिन इस कार्यक्रम में मुझे आप सब की मेजबानी करने का अवसर मिला है. आज के अवसर पर आप सबके सामने हिंदी के महत्व और वर्तमान काल में इसके उपर मंडरा रहे संकट और इसके निवारण के विषय में चर्चा करेंगे.

जैसा कि हम सब जानते है कि हिंदी भारत देश की सबसे अधिक बोली जाने वाली भाषा है. देखा जाये तो हिंदी का इतिहास लगभग एक हजार वर्ष पुराना है. आधुनिक काल (1850 ईस्वी के पश्चात) में इसमें सबसे अधिक विकास हुआ. यह वह समय था, जब हिंदी भाषा में भारतेंदु और प्रेमचंद जैसे महान सूर्यों का उदय हुआ. इसके साथ भारत के आजादी में भी हिंदी भाषा का काफी महत्व रहा है. चाहे वह आजादी के लिए तैयार किए गये हिंदी नारे हों या फिर देशभक्ति कविताएं. सभी ने देश की जनता के ह्रदयों में क्रांति की ज्वाला को भरने का कार्य किया है. यही कारण था कि हिंदी को जन-जन की भाषा माना गया और आजादी के पश्चात इसे राजभाषा का दर्जा मिला.

अपने इस भाषण के द्वारा मेरा आप सबसे बस यही कहना है कि हमे अंग्रेजियत से पीछा छुड़ाना है. अंग्रेजी के पीछे कुछ ऐसा भी नही पागल होना चाहिए कि हम अपने संस्कृति, विचारों और भाषा को ही भूल जायें. अगर अंग्रेजी ही तरक्की का पर्याय होती तो जर्मनी, जापान और इटली जैसे देश इतने विकसित नही होते, जोकि अपने मातृभाषा को शिक्षा के साथ ही अन्य क्षेत्रों में भी इतना महत्व देते है. अपने इस भाषण को समाप्त करते हुए मेरा सबसे आप सबसे बस यहीं कहना है.....जय हिंद, जय हिंदी, जय भारत!

धन्यवाद।

आप अपने हिंदी दिवस के भाषण में ऊपर के तीनो स्पीच में से आपको जो अच्छा लगे वो चुन कर अपने हिसाब से एक अच्छी हिंदी दिवस पर स्पीच ( Hindi diwas speech in Hindi ) बना सकते है. आपको यह हिंदी दिवस पर भाषण ( Hindi diwas par bhashan ) कैसा लगा हमे कमेंट में जरूर बताईये. hindi diwas 10 lines in hindi

ये भी पढ़ें:

Covid-19: स्वास्थ्य मंत्रालय ने दी Johnson and Johnson कंपनी की Single Dose Vaccine को मंजूरी

केंद्र सरकार ने ड्रॉप किया प्लान, अब ट्रेन यात्रियों को नहीं मिलेगी ये बड़ी सुविधाएं

स्वतंत्रता आंदोलन: पंजाब के जलियांवाला बाग घटना के 19 साल बाद हुआ 'कर्नाटक का जलियांवाला बाग' कांड

Next Story
Share it