The Secret of Indian Jails: क्या है भारत में जेल की सच्चाई? WATCH VIDEO!

क्या है भारत के जिलों की सच्चाई? जेल कितना सुरक्षित है? Secrets of Tihar Jail in Hindi। 
 
The Secret of Indian Jails: क्या है भारत में जेल की सच्चाई? WATCH VIDEO!
देश भर से जिलों के बारे में अक्सर ऐसी खबरें आती रहती है जिनमें वहां पर कैदियों को मोबाइल और टीवी जैसी विशेष सुविधाएं मुहैया कराई कराने की शिकायतें आती है। 
कई बार जेलों के भीतर हथियारों के साथ हिंसा ने गंभीर हालात पैदा की है। जाहिर है जेल परिसर में कैदियों को सुविधाओं से लेकर हथियार मिलना जेल कर्मियों अधिकारियों की मिलीभगत के बिना संभव नहीं है। इस तरह की खबरें आने के बावजूद देशभर में जेल प्रशासन पर शायद कोई असर नहीं पड़ा है। यह बेवजह नहीं है की एक और जहां तमाम ऐसे कैदी होते हैं जिन्हें सजा काटने के लिए रखा जाता हैं वह जेल में अपनी सुविधाओं के बीच अपना वक्त वक्त काटते हैं। जेलों के भीतर अवैध सामग्री के कारोबार से लेकर हिंसा और यहां तक कि हत्या की घटनाएं भी सामने आती है। भारत के सबसे बड़े जेलों में से एक तिहाड़ जेल (Tihar Jail) में पिछले साल एक कैदी को दौड़ा-दौड़ा कर मारने की खबर सामने आई थी। वह जेल की सुरक्षा व्यवस्था पर एक बड़ा सवाल खड़ा करता है। (Tihar Jail Undertrial Prisoner Murder Case)
  • Tihar Jail murder case in Hindi। कौन हैं सनी डोगरा उर्फ सिकंदर?

गौरतलब है कि सनी उर्फ सिकंदर डोगरा नाम के इस युवक को अवैध हथियार रखने के अपराध में तिहाड़ जेल में रखा गया था। वहां रहते हुए उसने जेल में नशीले पदार्थ बेचे जाते देखा और इसकी शिकायत प्रशासन से की। इसी के बाद नशीली पदार्थ बेचने वाले के आरोपों के घेरे में कुछ कैदियों ने उससे दुश्मनी कर ली और मौका मिलते ही चाकू से मारकर उसकी हत्या कर दी। यह घटना अपने आप में बताने के लिए काफी है कि राजधानी दिल्ली का तिहाड़ जेल को सबसे ज्यादा सुरक्षित माना जाता था और और उससे सुधार गृह के रूप में पेश किया जाता है वहां नशीले पदार्थों के कारोबार से लेकर हत्या की घटनाएं हो रही हैं। इस घटना को अंजाम देने वाले आरोपियों की वहीं मौजूदा कुछ अन्य कैदियों ने कुछ वीडियो बना ली जिसे यह सब सामने आ सका।
Secrets of Tihar Jail in Hindi
सवाल यह है कि जेल के भीतर कुछ कैदियों ने नशीले पदार्थ को कौन मुहैया करवाता है? उन्हें घातक हथियार कौन देता है? किस रास्ते से और किसके जरिए यह सामान अपराधियों तक पहुंचाया जाता है? जेलों में बंद दोषी या फिर आरोपी छुपकर वहां पर भी अपना अपराधिक धंधा चलाते हैं तो इसके लिए कौन जिम्मेदार हैं?
विडंबना यह है इस वीडियो के जरिए यह घटना के संबंधित कुछ तथ्य सामने आए हैं कि इस वीडियो को भी कैदियों में से किसी एक के जरिए बनाया गया है। यानी तिहाड़ जेल के भीतर सजा काटने वाले दोषियों के पास smartphone पाया जा सकता है। उन्हें नशीले पदार्थों का कारोबार करने में कोई तकलीफ नहीं होती है और यहां तक की किसी से दुश्मनी होने पर भी उसकी हत्या तक कर देते हैं। तो आखिरकार जेल सजा की परिभाषा क्या है?
ऐसा नहीं है कि दिल्ली की सबसे सुरक्षित जेल तिहाड़ में इस तरह की घटना पहली बार हुई है। इस घटना के करीब 3 महीने पहले एक कैदी ने दूसरे कैदी की चाकू मारकर हत्या कर दी थी। सरकार और जेल प्रशासन की ओर से यह दावा किया गया था कि कि बिना जांच और पड़ताल के जेल के भीतर एक सुई भी नहीं ली जा सकती है। लेकिन चाकू (knife), नशीले पदार्थ (drugs), स्मार्टफोन (smartphone) और दूसरी चीजें जिस तरह से पाई जाती है उससे साफ है कि जेल कर्मियों की मिलीभगत के वजह से इस तरह के आपत्तिजनक अपराध के दायरे में आने वाले सामान भी जेल में दोषियों तक पहुंच जाते हैं। सवाल यह है कि की तिहाड़ जेल इतनी असुरक्षित है तो बाकी जगह से क्या उम्मीद की जा सकती है?
  • भारत के सलाखों की कुछ रहस्यमई बातें जानने के लिए यह वीडियो पर नजर डालें। Secrets of an Indian Jail:

इस मामले में अपनी राय हमें अवश्य बताएं और कमेंट सेक्शन के जरिए बताएं।
अन्य खबरें:

देश और दुनिया की ताज़ा खबरों के लिए हमारे फेसबुक पेजको लाइक करे, हमे Twitterपर फॉलो करे, हमारेयूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब कीजिये|