क्राइम

Augusta Westland घोटाला: राजीव सक्सेना की $50 मिलियन की संपत्ति हुई ज़ब्त, ED करेगा जांच

Janprahar Desk
29 May 2020 9:38 PM GMT
Augusta Westland घोटाला: राजीव सक्सेना की $50 मिलियन की संपत्ति हुई ज़ब्त, ED करेगा जांच
x
ऑगस्टा वेस्टलैंड घोटाला UPA सरकार के राज में हुआ आखिरी घोटालों में से एक था। इस घोटाले में VVIP के हेलीकाप्टर से जुड़े कई बड़े घोटाले हुए थे जिसमे बड़े से बड़े सरकारी कर्मचारी चपेट में आ गए थे। कांग्रेस के बड़े बड़े नेता तक इस घोटाले में दोषी पाए गए थे। 
 

2013 की पहली तिमाही का मंज़र था जब देश 10 साल की UPA सरकार के राज से मुक्त होकर किसी बेहतर विकल्प को ढूंढ रहा था। चारों ओर बस मोदी की जय जयकार हो रही थी और लोगों में भरोसा था कि कुछ बेहतर हो सकेगा। लोगों में विश्वास था कि घोटाले, चोरियां, सभी बुरे दिन गुज़र चुके हैं और अब नयी सरकार जैसी भी होगी, उनके हित में काम करेगी। ऐसे में newspapers में augusta westland के घोटाले की खबर सामने आती है। लोगों में एक असामन्य स्थिति बनी पर पिछले सालों से हो रहे घोटालों की वजह से कोई ज़्यादा अचम्भित नहीं हुआ। 

आज प्रवर्तन निदेशालय ने इसी घोटाले से जुड़ा एक अहम काम किया है। आपको बता दें कि ED ने इस घोटाले में दोषी पाए गए एक बिचौलिए की संपत्ति ज़ब्त कर ली है। राजीव सक्सेना की ₹350 करोड़ से भी ज़्यादा मूल्य की संपत्ति को दुबई में ज़ब्त कर लिया है। राजीव सक्सेना को augusta westland के साथ Moser Baer बैंक घोटाले में भी दोषी पाया गया था। Moser Baer का नाम आप सब ने आम तौर पर CD, पेन ड्राइव्स में सुना होगा। Moser Baer को ED के शक के घेरे में तब लिया गया जब एक बैंक घोटाले में मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कमल नाथ के रिश्तेदारों को दोषी पाया गया था। 

आपको बता दें राजीव सक्सेना की संपत्ति में पाल्म जुमेरा में स्थित एक कोठी, और 5 स्विस बैंक के खाते जिनमे $45.5 मिलियन की धन राशि पायी गयी है। राजीव सक्सेना की खबर तब सामने आयी जब उन्हें ED ने दोषी पाकर 31 जनवरी 2019 में UAE से भारत में निर्वासित किया गया। सक्सेना को देश की PMLA कानून के तहत गिरफ्तार किया गया था। 

सीबीआई ने राजीव के खिलाफ दो अलग अलग FIR दायर की है जो ऑगस्टा वेस्टलैंड घोटाले और Moser Baer घोटाले से जुडी है। आपको जानकर हैरानी होगी कि सेवानिवृत्त एयर मार्शल SP त्यागी भी इस घोटाले में दोषी पाए गए थे। ED ने इन्ही दोनों FIRs को संज्ञान में लेते हुए पूछताछ शुरू कर दी है। सीबीआई ने इसी के साथ Moser Baer कंपनी, इसके निदेशक और अज्ञात सरकारी कर्मचारियों के खिलाफ बैंक घोटाले के परिपेक्ष्य में मामला दायर कर दिया है। 

पूछताछ में पता चला है कि राजीव सक्सेना एक हवाला कारोबारी है और जमाखर्ची के काम करते हैं। ये जमाखर्ची का कारोबार दुबई में विभिन्न कंपनियां जो Matrix संघ के नाम से जानी जाती हैं, उनके द्वारा किया जाता है। इन्ही कंपनियों के साथ मिलकर ऑगस्टा वेस्टलैंड और Moser Baer जैसे खतरनाक चीज़ों को अंजाम तक पहुंचा पाए हैं।  

Next Story