बिज़नेस

What is IPO in Hindi : IPO kya hai? : आईपीओ में कैसे करें निवेश, विस्तार से जानें

Janprahar Desk
4 Aug 2021 6:23 PM GMT
What is IPO in Hindi : IPO kya hai? : आईपीओ में कैसे करें निवेश, विस्तार से जानें
x
What is IPO in Hindi : IPO kya hai? : आईपीओ में कैसे करें निवेश?

What is IPO in Hindi: अगर आप Share Market के बारे में जानकारी रखते है तो आपने IPO के बारे में जरूर सुना होगा। अक्सर बड़ी-बड़ी कंपनियां अपने IPO को जारी करती है बहुत से लोग इसमें इन्वेस्ट भी करते है। वहीं, कुछ लोग ऐसे भी है जो IPO में निवेश करना चाहते है लेकिन उन्हें IPO के बारे में विस्तृत जानकारी नहीं होती है। तो इस पोस्ट में आपको बताएंगे IPO kya hai? और इसमें कैसे करें निवेश। तो What is IPO in Hindi आर्टिकल को अंत तक पढें।

IPO kya hai? : What is IPO in Hindi

IPO का फुल फॉर्म इनिशियल पब्लिक ऑफरिंग (Initial Public Offering) होता है। यह ऐसी प्रक्रिया होती है जिसमें निजी कंपनियां अपने शेयर की बिक्री सार्वजनिक तौर पर आम जनता को कर सकती है। अगर और सरल भाषा में समझाएं तो IPO के जरिए कंपनी छोटे छोटे निवेशकों से फंड इकट्ठा करती है और अपने बिज़नेस के तरक्की के लिए खर्च करती है।

IPO में जरिये जो व्यक्ति निवेश करता है वो उसे कंपनी की हिस्सेसारी मिल जाती है। मतलब जब आप किसी कंपनी के शेयर खरीदते है तो आप उस कंपनी के खरीदे गए हिस्से के मालिक होते हैं। बता दें कि एक कंपनी एक से ज्यादा बार भी IPO ला सकती है

  • IPO क्यों लाती है कंपनियां?

- कंपनियों द्वारा IPO जारी करने के कई कारण हो सकते है। कंपनियां अपने कर्ज को कम करने के लिए या फिर अपने आप का विस्तारीकरण करने के लिए IPO जारी करती है। इसके निम्नलिखित कारण हो सकते है। एक एक करके जानिए... What is IPO in Hindi

यह भी पढ़ें: Cryptocurrency Kya hai? : क्रिप्टोकरेंसी के बारे में विस्तार से जानें : what is Cryptocurrency in Hindi

- जब कंपनी को लगता है कि वह मार्केट में अच्छा परफॉर्म कर रही है और उसे बिज़नेस को बढ़ाने की जरूरत है तो कंपनियां एक्स्ट्रा रिसोर्स के लिए IPO जारी करती है।

- जह कंपनियों का कर्ज ज्यादा हो जाता है तो भी IPO जारी किया जाता है। बैंक से लोन लेने के बजाए कंपनियां कुछ शेयर बेच कर कर्ज का भुगतान करना आसन समझती हैं। इस तरह से कंपनी को नया इन्वेस्टर मिल जाता है और कंपनियां कर्ज का भुगतान भी कर देती है।

- कंपनी अगर बैंक से लोन लेती है तो उन्हें मूल रकम के साथ ब्याज भी देना पड़ता है लेकिन IPO के जरिए निवेश इकट्ठा करने में किसी तरह का ब्याज नहीं देना पड़ता है।

What is IPO in Hindi

  • IPO के Prospectus जरूर पढ़ें

जब भी कोई कंपनी IPO जारी करती है तो वह साथ में प्रॉस्पेक्टस भी जारी करती है। प्रॉस्पेक्टस में कंपनी और आईपीओ के बारे में सारी जानकारी दी जाती है। प्रॉस्पेक्टस पढ़कर आप अंदाजा लगा सकते है कि कंपनी कहां निवेश करेगी? और इस निवेश से रिटर्न मिलने की संभावना है या नहीं? तो कसी भी तरह का निवेश करने से पहले प्रॉस्पेक्टस को पूरा जरूर पढ़ें।

  • कितने प्रकार के IPO होते है? : Types of IPO

मुख्य रूप से दो टाइप के IPO होते है। अगर आप निवेश करना चाहते है तो आपको इसके बारे में भी जानकारी होनी चाहिए। IPO kya hai?

Fix Price IPO: इस प्रकार के IPO में कंपनी द्वारा इशू किये जाने वाले शेयर्स की कीमत तय होती है। Fix Price IPO में निवेशक को पहले से शेयर्स की कीमत पता होती हैं। इसमें निवेशकों को फुल शेयर प्राइस पर बिड लगानी पड़ती है। इसमें शेयर्स की डिमांड का पता IPO जारी होने के बाद ही चल पाता है।

यह भी जानें: Best Gold Investment Plan: गोल्ड में निवेश करने के लिए ये चार ऑप्शन है शानदार, होगा मुनाफा

Book Building IPO: इस प्रकार के IPO में निवेशक अपने मर्जी के हिसाब से कम या ज्यादा शेयर्स में आवेदन मार सकते है। Book Building IPO में कंपनी के तरफ से प्राइस-बैंड तय कर दिया जाता है। इसी प्राइस-बैंड के आधार पर ही निवेशक IPO में अप्लाई कर सकते है। इन्वेस्टर को अप्लाई करने से पहले बताना होता है कि वह कितने शेयर्स में आवेदन करना चाहते है।

शेयर के मिनिमम प्राइस को फ्लोर प्राइस कहा जाता है और मैक्सिमम प्राइस को कैप प्राइस कहते है।

अगर आपको What is IPO in Hindi की जानकारी पसंद आई हो तो इसे अन्य लोगों तक शेयर जरूर करें।

अन्य खबरें

Next Story